Loading... Please wait...

कांग्रेस की नजर दलित वोट पर!

भारतीय जनता पार्टी की तरह कांग्रेस भी दलित राजनीति पर फोकस कर रही है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की टीम के एक जानकार सदस्य का कहना है कि भाजपा के शीर्ष नेता पिछले कुछ समय से पिछड़ी जातियों के राजनीति पर फोकस कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के चुनाव में भी उन्होंने गैर यादव पिछड़ी जातियों पर ही ज्यादा ध्यान दिया था। इसके अलावा सवर्ण उनके साथ हैं। दलितों में कुछ चुनिंदा जातियों पर उनकी नजर है। 

राष्ट्रपति पद के एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद भी सीमित अर्थों में ही दलित हैं। महाराष्ट्र और गुजरात जैसे बड़े राज्यों में उनकी जाति ओबीसी में आती है। जबकि कांग्रेस की उम्मीदवार मीरा कुमार जिस जाति से आती हैं वह पूरे देश में दलित श्रेणी में है। इसके अलावा जिस तरह से देश भर में दलितों पर हमले हुए हैं और दलित चेतना का उभार हुआ है, उससे ऐसा लग रहा है कि दलितों की भाजपा से दूरी बनेगी और भाजपा बुनियादी रूप से पिछड़ा और अतिपिछड़ा वोट की राजनीति करेगी। 

इसे ध्यान में रख कर कांग्रेस ने दलित राजनीति का कार्ड खेला है। मीरा कुमार को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाने के बाद कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ में पीएन पुनिया को प्रभारी बनाया है और उससे पहले कर्नाटक में जी परमेश्वरा को अध्यक्ष बनाया। परमेश्वरा राज्य की राजनीति में एक प्रमुख दलित चेहरा हैं। इसी तरह पुनिया हरियाणा के हैं और उत्तर प्रदेश काडर के आईएएस अधिकारी हैं, जिनका राजनीतिक कार्यक्षेत्र उत्तर प्रदेश है। वे छत्तीसगढ़ के प्रभारी हैं। यानी अकेले तीन राज्य प्रभावित करेंगे।

अगले डेढ़ साल में छह बड़े राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। गुजरात और हिमाचल प्रदेश में इस साल चुनाव हैं, जबकि कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अगले साल के अंत में चुनाव हैं। इन छह राज्यों में करीब डेढ़ से आरक्षित सीटें हैं। कांग्रेस इन सीटों को ध्यान में रख कर अपनी योजना बना रही है। पार्टी के नेताओं को इन सीटों पर खास ध्यान देने को कहा गया है। इसके लिए उम्मीदवारों की छंटनी का काम भी शुरू कर दिया गया है। 

Tags: , , , , , , , , , , , ,

1666 Views

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd