कन्हैया का चुनाव लड़ना मुश्किल

सीपीआई के नेता और जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। उनके ऊपर देशद्रोह के आरोप लगे हैं और दिल्ली पुलिस ने आरोपपत्र दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में दायर कर दी है। 19 जनवरी को इस मामले की सुनवाई होगी और सारे देश की नजरें इस पर रहेंगी। आरोप तय होने के बाद सुनवाई चलती रहेगी। ऐसे में कन्हैया कुमार को बिहार में महागठबंधन का उम्मीदवार बनाना राजद और कांग्रेस दोनों के लिए मुश्किल होगा। अगर उनको गठबंधन का उम्मीदवार बनाया गया तो भाजपा को पूरे प्रदेश में गठबंधन को भारत विरोधी दिखाने में आसानी होगी। उसका प्रचार बहुत तीखा होगा। 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तीन साल पहले जब यह मामला आया था तब जेएनयू जाकर कन्हैया और उनकी टीम के समर्थन किया था। पर तीन महीने के बावजूद तीन साल बाद आरोपपत्र दायर होने के 36 घंटे बाद तक राहुल ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इससे जाहिर होता है कि वे कन्हैया का समर्थन करने से होने वाले नुकसान को बेहतर समझ रहे हैं। तभी उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और साथ ही भाजपा विरोधी दूसरी पार्टियों के नेता भी इस पर चुप रहे हैं। कन्हैया का बचाव करने की जिम्मेदारी उनकी पार्टी सीपीआई और खुद उनके ऊपर ही छोड़ दी गई है।  

300 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।