शिवराज लोकसभा तक इंतजार करेंगे

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बहुत हड़बड़ी में नहीं हैं। बीएस येदियुरप्पा की तरह वे लोकसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश सरकार को अस्थिर करने की राजनीति नहीं कर रहे हैं। जानकार सूत्रों का कहना है कि वे चाहते तो चुनाव के बाद येदियुरप्पा की तरह मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते थे और बहुमत भी साबित कर सकते थे। पर उन्होंने ऐसा नहीं किया। कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी नहीं चाहते थे कि चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी कांग्रेस को सरकार बनाने से रोका जाए और भाजपा तिकड़म करके अपनी सरकार बनाए। इसका लोकसभा चुनाव में उलटा असर होता। 

तभी अब कहा जा रहा है कि शिवराज आराम से लोकसभा चुनाव तक इंतजार करेंगे। उनको भले पार्टी ने येदियुरप्पा की तरह विधायक दल का नेता नहीं बनाया है और राष्ट्रीय उपाध्क्ष बना दिया है पर शिवराज को भरोसा है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार अस्थिर हुई तो मुख्यमंत्री बनने का मौका उनको ही मिलेगा। इसका कारण यह है कि ज्यादातर विधायक उनके भरोसे हैं और दूसरे बाहरी समर्थन से गठबंधन वाली सरकार चलाने की क्षमता सिर्फ उनमें है। वे अगले चुनाव तक भी इंतजार करने को तैयार हैं क्योंकि उम्र और सेहत उनके साथ है। उनके उलट येदियुरप्पा 76 साल के हो गए हैं और वे ज्यादा समय तक इंतजार नहीं कर सकते। 

310 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।