घायल पंख, सूखे आंसू, रोेई खुद्दारी

Sale!

Price: 100.00
Sale Price: 98.00

सन् 2020 में दुनिया का हर देश महामारी के महाकाल में परीक्षा देते हुए था। परीक्षा नागरिकों की रक्षा की, जान, तकलीफ और आंसू की सच्चाई के आगे सच्चे व्यवहार की।

Category:

Description

सन् 2020 में दुनिया का हर देश महामारी के महाकाल में परीक्षा देते हुए था। परीक्षा नागरिकों की रक्षा की, जान, तकलीफ और आंसू की सच्चाई के आगे सच्चे व्यवहार की। हकीकत है कि अमेरिका, यूरोप, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर याकि सभ्य देश एक-एक जान की चिंता करते हुए पूरे साल दहले, रोते वायरस की सच्चाई स्वीकारते हुए थे जबकि भारत के हम लोग और सरकार पहले दिन से हजारों झूठ से वायरस को नकारे रहे। वैश्विक मीडिया याकि बीबीसी, सीएनएन, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर आदि की टीवी चैनलों में समाचार बुलेटिन 95 प्रतिशत वायरस की खबरें लिए थे और हैं जबकि भारत के टीवी चैनल पांच प्रतिशत भी नहीं। यह फर्क भारत और भारत के 138 करोड़ लोगों की भीड़ के इस सत्य का प्रमाण है कि हमने महामारी के सन् 2020 को कैसे जीया है!

साल के 365 दिन। इसका पहला दिन, पहला-दूसरा-तीसरा महीना देश की बीस प्रतिशत मुस्लिम आबादी की बूढ़ी अम्माओं की इस चिंता का था कि नए कानून से तब हम कैसे इस देश में रह पाएंगे? परदे में रहने वाली 75 साला नूर-उन-निसां आदि बुजुर्ग औरतों ने कड़कड़ाती ठंड-सर्द रातों में टेंट में बैठे यह रोना रोया कि ‘उन्होंने हमें बांट दिया है। इसलिए शाहीन का यह परवाज (उड़ना) है। मैंने इस उम्र में लड़ने का फैसला लिया है’। तो एक मुसलमान ने लिखा- इस देश में सरकार, टीवी मीडिया, सोशल मीडिया सबने मुसलमान की वह घेरेबंदी बना डाली है, जिसका लब्बोलुआब असहिष्णुता, नफरत का शोर है।… साथी देशवासियों मुझसे बात करो। मुझे न समझो पागलों के जरिए। संवाद करो। नफरत के उस शोर से बाहर निकलो, जिसमें कुछ सुना नहीं जा रहा है। शुरू करो एक संवाद। एक मुसलमान से बात करो।

सवाल है बूढ़ी अम्माओं का जनवरी की कड़कड़ाती ठंड में रोते हुए होना और दिसंबर की कड़कड़ाती ठंड में सड़क किनारे किसानों के रोने को मनुष्य की पीड़ा, कष्ट, त्रासदी का मानव संकट मानें या न मानें? पल भर मसले के सत्य को भूलें। सिर्फ इंसान के नाते उन इंसानों पर सोचें जो चिंता, पीड़ा में रोते हुए हैं उन्हें ढाढस देने, चुप कराने, मलहम लगाने का इंसानीपना, मानवीय होने की संवेदना दिखलाएंगे या गाली देंगे कि हरामियों, बदमाशों, दुश्मनों, खालिस्तानियों, पाकिस्तानी एजेंटों! उफ! कितनी तरह की गालियां अपने ही लोगों को। तभी सन् 2020 का भारत अनुभव सवाल लिए हुए कि मष्तिष्क कैसे इतना जड़ और ठूंठ!

तो 21वीं सदी का सन् 2020 क्या मानव इतिहास में मानवीय त्रासदी का भारत अध्याय नहीं है? बिल्कुल है। दुनिया के इतिहास में हमेशा लिखा रहेगा कि सन् 2020 की महामारी में भारत सचमुच अंधेरे का उपमहाद्वीप था। न समझदारी थी, न संवेदना थी और न शर्म, पश्चाताप, खेद व जवाबदेही! इससे भी बड़ी शर्मनाक हकीकत जो  उस त्रासदी को कैसे ऐसे भुलाया गया मानो कुछ हुआ ही नहीं!

Additional information

Book Author