नेपाल के बाद श्रीलंका के तेवर, रावण की तारीफ!

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने अयोध्या को लेकर एक विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि असली अयोध्या नेपाल में है। इसे लेकर वे अभी तक विरोध झेल रहे हैं और कुर्सी तक जाने का खतरा पैदा हो गया है। नेपाल के बाद अब श्रीलंका से भी इसी तरह की विवादित खबरें आ रही हैं। ऐसा लग रहा है कि भारत के बड़बोले नेताओं को श्रीलंका से अच्छी चुनौती मिलने वाली है। भारत में भाजपा के अनेक नेता धार्मिक प्रसंगों की वैज्ञानिक व्याख्या करते रहे हैं। ऐसी ही व्याख्या श्रीलंका के एक अधिकारी ने की है।

श्रीलंका के नागरिक उड्डयन विभाग के उप प्रमुख ने रामायण में वर्णित रावण की जम कर तारीफ की है। पहले श्रीलंका के मंत्री और दूसरे नेता भी तारीफ कर चुके हैं और वहां रावण के नाम पर चीजें सकारात्मक बनी हुई हैं। पर उड्डयन विभाग के उप प्रमुख ने कहा है कि रावण  जीनियस था और उसके पास विमान उड़ाने की क्षमता थी। रावण के ‘पुष्पक विमान’ को पहला विमान मानने वाले अनेक लोग भारत में भी हैं। अब श्रीलंका के अधिकारी ने कहा है कि वे पांच साल में इसे साबित कर देंगे। यहां तक तो बात फिर भी ठीक थी पर उन्होंने कहा है कि रावण ने सीता का हरण नहीं किया था, बल्कि यह भारत का दुष्प्रचार है। नेपाल की तरह श्रीलंका भी चीन के पूरे असर में है।

One thought on “नेपाल के बाद श्रीलंका के तेवर, रावण की तारीफ!

  1. Rama period m sant tulasi das or maharshi Balmiki v the,jinhone Ramayana likhi, shree lanka wale jo bol rahe h ho sakta h purv JANMO m taadka k aulad honge jo iss janm m bol rahe k Ravan sita ka haran nahi kiya, avi iss yug m Hanuman or bhagwan Parshuram jeevit h, usko (lanka wale) ko unse milakar baat clear samajh leni chahiye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares