nayaindia Badruddin Ajmal Himanta Biswa Sarma अजमल ने तो भाजपा की ही बात कही है!
kishori-yojna
राजरंग| नया इंडिया| Badruddin Ajmal Himanta Biswa Sarma अजमल ने तो भाजपा की ही बात कही है!

अजमल ने तो भाजपा की ही बात कही है!

असम में ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के नेता बदरूद्दीन अजमल ने एक बयान दिया है, जिस पर काफी विवाद हो रहा है। अजमल ने कहा कि हिंदुओं को भी मुस्लिम मॉडल अपनाना चाहिए और कम उम्र में बच्चों की शादी करनी चाहिए ताकि ज्यादा बच्चे पैदा हो सकें। इसे लेकर उनके खिलाफ कई मामले दर्ज किए गए हैं। उनके बयान का विरोध करते हुए राज्य के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा पर तीखा हमला किया और कहा कि महिलाएं बच्चा पैदा करने की फैक्टरी नहीं हैं। हैरानी की बात है कि भाजपा के नेता अजमल के बयान से इतने आहत हुए। अजमल ने असल में उनकी ही बात कही है। अब तक संघ प्रमुख से लेकर दूसरे भाजपा नेता जो कहते रहे हैं वहीं बात उन्होंने भी कही है।

याद करें 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत ने क्या कहा था? मोहन भागवत ने कहा था कि जब दूसरे धर्म के लोग ज्यादा बच्चे पैदा करते हैं तो हिंदुओं को किसने रोका है। इससे आगे उन्होंने यह भी कहा कि कोई कानून ज्यादा बच्चे पैदा करने से नहीं रोकता। इसके बाद भाजपा के बड़े नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इसका समर्थन किया था और कहा था कि राम मंदिर की मांग होती है लेकिन रामभक्त ही नहीं होंगे तो मंदिर कैसे बनेगा। हालांकि अब गिरिराज सिंह जनसंख्या नियंत्रण की बात करते हैं। बहरहाल, भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने उसके कुछ दिन के बाद कहा था कि हर हिंदू जोड़े को पांच बच्चे पैदा करना चाहिए ताकि हिंदुत्व बरकरार रखा जा सके। उत्तर प्रदेश में भाजपा के व्यापार प्रकोष्ठ के संयोजक विनीत शारदा ने पिछले दिनों कहा कि हर हिंदू जोड़े को पांच बच्चे पैदा करना चाहिए वरना देश को पाकिस्तान बनते देर नहीं लगेगी। इस तरह के और भी बयान हैं पर इतने से पता चलता है कि भाजपा इस बारे में क्या राय रखती है। फिर वह क्यों अजमल के बयान से आहत हो रही है?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × four =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कांग्रेस ने सांसद परनीत कौर को निलंबित किया
कांग्रेस ने सांसद परनीत कौर को निलंबित किया