nayaindia Ayodhya Diwas Congress Demonstration अयोध्या दिवस और
राजरंग| नया इंडिया| Ayodhya Diwas Congress Demonstration अयोध्या दिवस और

अयोध्या दिवस और कांग्रेस का प्रदर्शन

कांग्रेस पार्टी ने पांच अगस्त को दिल्ली में बहुत जबरदस्त प्रदर्शन किया। स्थितियां अनुकूल नहीं थीं। प्रदर्शन से ठीक पहले तेज बारिश शुरू हो गई और दिल्ली पुलिस ने जंतर-मंतर छोड़ कर पूरी नई दिल्ली में धारा 144 लगा दिया था। कांग्रेस के सांसदों को राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च करने से पहले और पार्टी के पदाधिकारियों को प्रधानमंत्री आवास की ओर मार्च करने से पहले ही हिरासत में ले लिया गया। कांग्रेस के इस प्रदर्शन को अच्छी खासी मीडिया कवरेज मिली। लेकिन शाम होते होते भाजपा ने नैरेटिव बदलने का प्रयास किया। यह प्रयास कितना बड़ा था इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि खुद अमित शाह और योगी आदित्यनाथ इसके लिए मैदान में उतरे। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास के दिन कांग्रेस ने काले कपड़े पहन कर प्रदर्शन किया। भाजपा नेताओं ने कांग्रेस के प्रदर्शन को धर्म से जोड़ते हुए उसे हिंदू और मंदिर विरोधी ठहराने का प्रयास किया।

ऐसा लग रहा है कि भाजपा को कांग्रेस के प्रदर्शन पर सवाल उठाने के लिए कोई मुद्दा नहीं मिला तो यह मुद्दा उठाया गया। एक टेलीविजन चैनल के पत्रकार ने आगे बढ़ कर इसका श्रेय भी लिया कि उन्होंने सबसे पहले यह नैरेटिव सेट किया। अगर कांग्रेस से यह सवाल पूछा जाता है कि उसने शिलान्यास के दिन क्यों प्रदर्शन किया तो सोशल मीडिया में कई लोगों ने यह सवाल पूछा कि राममंदिर शिलान्यास के दिन रिजर्व बैंक ने ब्याज दर क्यों बढ़ाई? किसी ने पूछा अयोध्या दिवस के दिन आईजीएल ने घरों में सप्लाई होने वाली रसोई गैस की कीमत क्यों बढ़ाई? किसी ने यह पूछा कि पहले और दूसरे शिलान्यास दिवस पर कांग्रेस ने ऐसा कुछ नहीं किया था फिर तीसरे शिलान्यास दिवस पर हुए प्रदर्शन को उससे क्यों जोड़ा जा रहा है। एक ज्यादा कल्पनाशील व्यक्ति ने यह भी कहा कि पांच अगस्त को शिलान्यास क्यों हुआ, जिस दिन 52 साल पहले मुगले आजम फिल्म रिलीज हुई थी। ध्यान रहे पांच अगस्त को सोशल मीडिया पर लाखों लोग मुगले आजम की रिलीज के 52 साल होने का जश्न भी मना रहे थे।

Leave a comment

Your email address will not be published.

fourteen + twelve =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सोनिया करेंगी राजस्थान का फैसला
सोनिया करेंगी राजस्थान का फैसला