तेलंगाना की लड़ाई हैदराबाद में - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

तेलंगाना की लड़ाई हैदराबाद में

भारतीय जनता पार्टी हैदराबाद में ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम की लड़ाई नहीं लड़ रही है, बल्कि यह तेलंगाना की लड़ाई है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने खुद वहां की कमान संभाली है और पार्टी ने महासचिव भूपेंद्र यादव को नगर निगम के चुनाव का प्रभारी बनाया है। हालांकि वह कोई मामूली नगर निगम नहीं है, जिस तरह से मुंबई में बीएमसी की लड़ाई होती है, वैसी ही लड़ाई ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम की है। इस निगम का बजट बहुत बड़ा है और वहां से राज्य की राजनीति में कब्जे का रास्ता खुलता है। तभी जेपी नड्डा, भूपेंद्र यादव, जी किशन रेड्डी जैसे तमाम दिग्गज नेता अपने को हैदराबाद में झोंके हुए हैं।

हैदराबाद निगम की डेढ़ सौ सीटें हैं। इसके अंदर विधानसभा की 25 और लोकसभा की पांच सीटें आती हैं। इसलिए यह कोई छोटा चुनाव नहीं है। तभी भाजपा किसी तरह से इस चुनाव को ऐसा रूप देना चाह रही है, जिससे सांप्रदायिक ध्रुवीकरण हो। इसके लिए असदुद्दीन ओवैसी और उनके भाई अकबरूद्दीन को मुद्दा बनाया गया है। भाजपा ने कुल 95 सीटों को ध्रुवीकरण के लिहाज से मुफीद माना है तो दूसरी ओर ओवैसी की पार्टी ने 45 ऐसी सीटें चुनी हैं, जहां उनका आमने सामने का मुकाबला हो सकता है। फिलहाल नगर निगम में तेलंगाना राष्ट्र समिति का कब्जा है पर अगर इस बार कब्जा टूटता है या त्रिशंकु स्थिति बनती है, जिसमें टीआरएस को एमआईएम की मदद लेनी पड़े तो यह भी भाजपा के लिए बहुत अनुकूल साबित होगा। इस दम पर भाजपा लोकसभा और विधानसभा की रणनीति बनाएगी। कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश का बंटवारा करके अलग तेलंगाना राज्य बनवाया था पर दुर्भाग्य से वह लड़ाई में कहीं नहीं है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow