लालू परिवार से किसे मिलेगी राज्यसभा?

राज्यसभा के दोवार्षिक चुनावों की अभी घोषणा नहीं हुई है पर उम्मीदवारों की भागदौड़ शुरू हो गई है। राज्यसभा के चुनावों के साथ साथ बिहार में इस साल विधानसभा के चुनाव भी होने हैं। इसलिए बिहार में राज्यसभा का चुनाव ज्यादा दिलचस्पी वाला है। एक खास बात यह भी है कि बिहार में शरद यादव की एक सीट अदालती दांवपेंच में फंसी है। अदालत के अंतिम फैसले के बाद ही उस पर चुनाव होगा वह भी तब जबकि 2022 में इस सीट का कार्यकाल खत्म होने से पहले फैसला आए। सो, फिलहाल अभी पांच सीटों पर चुनाव होना है और ये पांचों सीटें एनडीए की हैं, जिनमें तीन जदयू की ओर दो भाजपा की हैं।

बिहार की एक राज्यसभा सीट जीतने के लिए 41 वोट की जरूरत है। इस लिहाज से सीटों का गणित बहुत साफ है। 81 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी राजद है, जिसके खाते में दो सीटें जाएंगी। एनडीए के पास 130 सीटें हैं। सो, उसके खाते में तीन सीटें जाएंगी। 71 सीट वाली जदयू को दो और 54 सीट वाली भाजपा को एक सीट मिलेगी। इस तरह राजद को इस बार दो सीटों का फायदा हो रहा है। अब सवाल है कि राजद से किसको राज्यसभा में भेजा जाएगा? क्या लालू प्रसाद के परिवार से किसी को राज्यसभा जाने का मौका मिलेगा?

लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती को 2016 में राज्यसभा में भेजा गया था। उस समय भी पूर्व मुख्यमंत्री और लालू प्रसाद की पत्नी राबड़ी देवी का नाम पहले चर्चा में था। इस बार भी चर्चा है कि राबड़ी देवी को राज्यसभा भेजा जा सकता है। लेकिन यह सिर्फ चर्चा है क्योंकि परिवार के दो और सदस्यों के नाम की चर्चा शुरू हो गई है। लालू प्रसाद की दूसरी बेटी रोहिणी आचार्य को भी इस बार दावेदार बताया जा रहा है। इस बीच उनके बड़े बेटे तेज प्रताप के नाम की भी चर्चा शुरू हो गई है।

असल में लालू परिवार इस बात को लेकर आशंकित है कि इस बार अगर तेज प्रताप अपनी महुआ विधानसभा सीट से चुनाव लड़ते हैं तो उनके ससुराल के परिवार से कोई उनके खिलाफ लड़ेगा। हो सकता है कि उनके ससुर चंद्रिका राय, जिन्होंने हाल ही में जदयू ज्वाइन किया है वे लड़ें या तेज प्रताप की पत्नी ऐश्वर्या को भी उनके खिलाफ उतारा जा सकता है। परिवार इस स्थिति को टालना चाह रहा है। इसलिए तेज प्रताप को राज्यसभा भेजने की चर्चा शुरू हो गई है। यह भी हो सकता है कि पार्टी उनको विधान परिषद भेज दे, तब भी चुनाव से बचा सकता है। बहरहाल, जो हो एक सीट परिवार के किसी सदस्य को मिलेगी। दूसरी सीट के लिए प्रेमचंद्र गुप्ता फिर दावेदार हैं, जिनको झारखंड से मिली राज्यसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। राजद के पुराने नेताओं रघुवंश प्रसाद सिंह या जगतानंद सिंह के नाम की भी चर्चा है। इसके साथ ही ऐसे किसी नाम के आने की भी चर्चा है, जो इस साल के चुनाव के लिए संसाधन जुटा सके।

2 thoughts on “लालू परिवार से किसे मिलेगी राज्यसभा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares