RJD contrroversy Tej Pratap लालू परिवार के नाटकों का पटाक्षेप हो
राजरंग| नया इंडिया| RJD contrroversy Tej Pratap लालू परिवार के नाटकों का पटाक्षेप हो

लालू परिवार के नाटकों का पटाक्षेप हो!

Tejpratap yadav

RJD contrroversy Tej Pratap बिहार में लालू प्रसाद के परिवार का नाटक खत्म ही नहीं हो रहा है। टेलीविजन पर सालों साल चलने वाले धारावाहिक की तरह हर दूसरे-तीसरे महीने एक नई कहानी शुरू हो जाती है और फिर नाटक चलता रहता है। बिहार के लोग अब इससे थक गए हैं। लालू प्रसाद और राबड़ी देवी दोनों को मिल कर यह नाटक स्थायी रूप से खत्म कराना चाहिए। अगर यह नाटक जब तक खत्म नहीं होगा, तब तक लोग तेजस्वी यादव को भी गंभीरता से नहीं लेंगे। तेज प्रताप को वैसे भी लोग गंभीरता से नहीं लेते हैं लेकिन तेजस्वी को गंभीर नेता माना जाए, इसके लिए जरूरी है कि स्थायी रूप से चलने वाला धारावाहिक नाटक बंद हो।

Read also कल्याण सिंह और मंडल बनाम कमंडल

तेज प्रताप के नाटकों ने पिछले विधानसभा चुनाव में राजद को कई सीटों का नुकसान कराया। वे अपने जैसे नाटकीयता वाले लोगों को कभी संगठन में जगह दिला देते हैं तो कभी टिकट देने का वादा कर देते हैं और फिर जब उनकी बात नहीं मानी जाती है तो वे पार्टी के पुराने नेताओं से लड़ने लगते हैं, जैसे अभी छात्र राजद के अध्यक्ष के नाम पर वे प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से लड़ रहे हैं। परिवार के ऐसे ही नाटक का शिकार रघुवंश प्रसाद सिंह हुए थे और अब जगदानंद सिंह पर निशाना है।

तेज प्रताप ने सिर्फ जगदानंद सिंह को निशाना नहीं बनाया है, बल्कि तेजस्वी के लिए राजनीतिक रणनीति बनाने का काम करने वाले संजय यादव पर भी हमला किया है। वे एक साथ अपने पिता के करीबियों से भी लड़ रहे हैं और भाई के करीबियों से भी। पहले उनका कृष्ण भागवान बनने का नाटक चला, पत्नी से अलग होने का नाटक चला, फिर बड़ी बहन के साथ मिल कर तेजस्वी से लड़ने का नाटक चला और अब पार्टी के संस्थापकों में से एक जगदानंद सिंह से चल रहा है। किसी ने उनको मिसगाइड कर दिया है कि वे नाटक करते रहेंगे तो मीडिया में बने रहेंगे और एक दिन लालू प्रसाद की तरह लोकप्रिय नेता बन जाएंगे। लेकिन ध्यान रहे लालू ने कभी परिवार की निजी बात बाहर नहीं आने दी। उनके नाटक पारिवारिक नहीं,  राजनीतिक होते थे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
अखिलेश-जयंत से उनके चहेते ही खफा
अखिलेश-जयंत से उनके चहेते ही खफा