बिल गेट्स भी टीका बनवाने में लगे हैं?

दुनिया भर की दवा कंपनियों को छोड़ दें तो शायद कोई दूसरा उद्योगपति कोविड-19 का टीका बनवाने के लिए उतना बेचैन नहीं है, जितने बिल गेट्स हैं। कहा जा सकता है कि माइक्रोसॉफ्ट के मालिक गेट्स अब उद्योगपति से ज्यादा धर्माथ काम करने वाले व्यक्ति हो गए हैं। बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन दुनिया भर में चैरिटी के काम चला रहा है। पर हकीकत में कोई भी बड़ा उद्योगपति जब चैरिटी के काम करता है कि वह भी उसका बिजनेस वेंचर ही होता है। बहरहाल, कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप के बीच गेट्स काफी सक्रिय हैं। उन्होंने पिछले दिनों द इकोनॉमिस्ट में एक लेख लिखा और उससे पहले एक मेडिकल पत्रिका में लेख लिखा था। दोनों जगह उन्होंने बताया है कि अभी जो लड़ाई चल रही है वह बहुत छोटी है और बड़ी लड़ाई अभी बाकी है। उन्होंने लिखा है कि बिना लक्षण वाले 80 फीसदी मरीज होने का मतलब है कि इसे रोक सकना संभव नहीं है, जैसे पहले के वायरस को रोका गया था। उनके बारे में यह भी कहा जा रहा है कि उन्होंने 2015 में ही इस तरह की किसी आपदा की भविष्यवाणी की थी। इसके अलावा पिछले साल के अंत में जॉन हॉपकिंस सेंटर फॉर हेल्थ सिक्योरिटी ने एक इवेंट किया था, जिसमें एक काल्पनिक वायरस के फैलने और वित्त बाजार, मेडिकल क्षेत्र आदि की उस पर प्रतिक्रिया का आकलन किया गया था। यह एक सिमुलेशन के जरिए किया गया था। इसका नतीजा यह था कि डेढ़ साल लगेंगे वैक्सीन आने में और तब तक दुनिया में साढ़े छह करोड़ के करीब लोग मरेंगे। इस इवेंट में बिल व मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम सहयोगी थे।

अब इस बात को यहीं छोड़ें। असल में बीमारी के फैलने के बाद बिल गेट्स पूरी सक्रियता से वैक्सीन तैयार कराने में जुटे हैं। बिल गेट्स ने खुद कहा है कि सात अलग अलग लैबोरेटरी में जहां वैक्सीन पर काम हो रहा है, उनको वे फंडिंग कर रहे हैं। इनमें से जो दो सबसे अच्छे वैक्सीन होंगे उनका मानव परीक्षण होगा और उसे बाजार में लाया जाएगा। इस काम में डेढ़ साल लगेंगे और यह अगले साल के अक्टूबर तक आ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares