nayaindia BJP booth empowerment campaign भाजपा का बूथ सशक्तिकरण
राजरंग| नया इंडिया| BJP booth empowerment campaign भाजपा का बूथ सशक्तिकरण

भाजपा का बूथ सशक्तिकरण अभियान

BJP booth empowerment campaign

भारतीय जनता पार्टी मशीन के अंदाज में काम करने वाली पार्टी बन गई है। सालों भर और 24 घंटे पार्टी के अंदर चुनावी तैयारी चल रही होती है या कोई न कोई गतिविधि हो रही होती है। पार्टी ने अभी से अपने सारे नेताओं को 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी में लगा रखा है। साथ ही जिस राज्य में जब भी चुनाव हो उसकी तैयारी भी लोकसभा के साथ ही चल रही है। इसके लिए सभी राज्यों में बूथ सशक्तिकरण का अभियान चल रहा है। हर विधानसभा और लोकसभा में पिछले चुनाव के आधार पर भाजपा के सबसे कमजोर बूथ की पहचान की गई है और उनकी सूची राज्यों के नेताओं को भेजी गई है। यह काम भाजपा के केंद्रीय कार्यालय में हुआ है और दिल्ली से सभी राज्यों को कमजोर बूथ की जानकारी दी गई है।

Read also अमेरिका के कारण नहीं है ताइवान संकट

भाजपा ने पिछले चुनाव में हुए मतदान के आंकड़ों के आधार पर देश भर में कोई 73 हजार ऐसे मतदान केंद्रों की सूची बनाई है, जहां भाजपा को औसत से कम या बहुत कम वोट मिले हैं। पार्टी के स्थानीय नेताओं को इन बूथों पर काम करने को कहा गया है। दिल्ली से एक प्रश्नावली भी भेजी गई है, जिसके आधार पर इन कमजोर बूथों पर लोगों से बात करनी है और उनकी फीडबैक लेनी है। सांसदों, विधायकों सहित संगठन के पदाधिकारियों को भी इस काम में लगाया गया है। सभी नेताओं को एक लक्ष्य दिया गया है। उनको हर कमजोर बूथ पर एक निश्चित संख्या में लोगों से बात करनी है और उनकी फीडबैक दिल्ली भेजनी है। उनका नाम, पता, बूथ नंबर और फोन नंबर भी भेजना है। नेताओं को सबसे ज्यादा परेशानी इसी में हो रही है। ज्यादातर आम आदमी अपना फोन नंबर नहीं देना चाहता है। धुर आदिवासी बहुल और ग्रामीण इलाकों में लोगों के पास फोन नंबर हैं भी नहीं और जिसके पास है वह देता नहीं है। लेकिन प्रदेश नेताओं को तो पार्टी आलाकमान के निर्देश का पालन करना ही है।

 

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

fourteen + 2 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
विपक्ष को खत्म करना चाहती है भाजपा: तेजस्वी
विपक्ष को खत्म करना चाहती है भाजपा: तेजस्वी