भाजपा के सीएम नहीं बदलेंगे - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

भाजपा के सीएम नहीं बदलेंगे

BJP

भारतीय जनता पार्टी के शासन वाले राज्यों में भले पार्टी के अंदर खूब तिकड़म और दांव-पेंच चल रहे हैं पर ऐसा लग रहा है कि कोई भी मुख्यमंत्री बदला नहीं जाएगा। तभी यह हैरान करने वाली बात है कि जब पार्टी आलाकमान यह तय किए हुए है कि किसी मुख्यमंत्री को हटाया नहीं जाएगा फिर क्यों पार्टी के अंदर घमासान छिड़ा? भाजपा के एक जानकार नेता ने कहा कि इसके दो कारण हो सकते हैं। पहला तो यह कि पार्टी आलाकमान का इकबाल कम हुआ है, जिससे प्रदेशों के नेता स्वतंत्र हुए हैं या दूसरा यह कि पार्टी आलाकमान ने ही प्रदेशों में मजबूत हो रहे क्षत्रपों को उनकी जगह दिखाने और उनको अस्थिर करने का काम योजनाबद्ध तरीके से कराया।

यह भी पढ़ें: फड़नवीस की पसंद को तरजीह

cm adityanath yogi

बहरहाल, सबसे ज्यादा अस्थिर कुर्सी कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की दिख रही थी। लेकिन वहां भी पार्टी आलाकमान ने साफ कर दिया कि उनको नहीं हटाया जाएगा। उलटे पार्टी के महासचिव और प्रभारी अरुण सिंह ने यह भी कहा कि येदियुरप्पा के खिलाफ बयान देने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। असल में अरुण सिंह की बेंगलुरू यात्रा के दौरान येदियुरप्पा ने अपनी ताकत दिखाई। पार्टी के करीब 65 विधायकों ने बिना किसी अगर-मगर के उनका समर्थन किया। मुख्यमंत्री के खिलाफ छोटी सी बगावत का इतना फायदा पार्टी आलाकमान को हुआ कि येदियुरप्पा ने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहेंगे तब वे पद छोड़ने को तैयार हैं।

यह भी पढ़ें: प्रियंका के ट्विट की अनदेखी!

cm shivrajsingh chuhan

कर्नाटक से उलट उत्तर प्रदेश में खबर है कि एक-तिहाई विधायकों ने ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का समर्थन किया पर पिछले चार साल में योगी की बनी विराट हिंदू नेता की छवि के आगे पार्टी नेतृत्व मजबूर है। चुनाव से पहले उनको बदलना संभव नहीं है। इसलिए पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष और प्रभारी राधामोहन सिंह दोनों ने उनके कामकाज की जम कर तारीफ की। सो, यूपी में भी तय हो गया है कि मुख्यमंत्री नहीं बदला जाएगा।

narendra modi amit shah

यह भी पढ़ें: दिल्ली में बैठे रहते हैं कांग्रेस के प्रभारी

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के उपचुनाव लड़ने का पेंच है लेकिन पार्टी उनको बनाए रखने के मूड में ही है। ज्यादा संभावना है कि वे गंगोत्री सीट से उपचुनाव लड़ेंगे। मध्य प्रदेश में भी कई नेताओं ने बहुत भागदौड़ की है लेकिन अंत में सबने कहा कि शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री बने रहेंगे। त्रिपुरा का मामला अब भी उलझा हुआ है लेकिन दो वजहों से बिप्लब देब की कुर्सी पक्की मानी जा रही है। पहला कारण तो यह है कि पार्टी के पास वहां कोई दूसरा चेहरा नहीं है, जो दो साल में कमाल कर सके और दूसरा कारण यह है कि प्रधानमंत्री मोदी अब भी बिप्लब के पक्ष में बताए जा रहे हैं। बहरहाल, तीरथ सिंह रावत और बिप्लब देब का मामला अलग है क्योंकि ये दोनों आलाकमान की कृपा के मोहताज हैं परंतु येदियुरप्पा, योगी और शिवराज ने अपना दम दिखाया है और तभी विरोधी ठंडे हुए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *