सेंगर और चिन्मयानंद को बड़ी राहत

सोशल मीडिया में यह पहले से कहा जा रहा था कि बलात्कार और हत्या के आरोपी भाजपा के दो नेता- कुलदीप सिंह सेंगर और चिन्मयानंद जेल में हैं तो यह महज वक्त की बात है। उन्हें अंततः सजा नहीं होनी है और अगर सजा हुई भी तो वह नाममात्र की होगी। यह भी कहा जा रहा था कि राज्य की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने दोनों को बचाने के लिए साऱे घोड़े खोल रखे हैं। इसलिए सीबीआई को भी जांच देने का कोई फायदा नहीं है। आखिरकार वहीं हुआ। सीबीआई ने कुलदीप सेंगर के ऊपर से हत्या और हत्या की साजिश रचने के आरोप हटा दिए हैं।

गौरतलब है कि उन्नाव में सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता के परिवार के कई सदस्यों को मौत हो गई है। पिछले दिनों परिवार के सदस्यों की गाड़ी को गलत दिशा से आ रहे एक ट्रक ने ठोकर मारी थी, जिसमें बलात्कार पीड़ित लड़की भी बैठी थी। वह हाल तक जीवन से संघर्ष कर रही थी और अब उसकी सेहत में सुधार है। उसके वकील की हालत अब भी खराब है और चाची की मौके पर ही मौत हो गई थी। पर सीबीआई को इसमें कोई साजिश नहीं दिखी है। सो, अब भाजपा के विधायक कुलदीप सेंगर पर सिर्फ बलात्कार का मामला चलेगा। वह भी देखते हैं कब तक चलता है!

इसी तरह चिन्मयानंद के खिलाफ उनके कॉलेज में पढ़ने वाली युवती ने बलात्कार के आरोप लगाए हैं। कुल 43 वीडियो क्लिप भी सौंपे हैं, जिनमें भाजपा के पूर्व सांसद चिन्मयानंद की आपत्तिजनक गतिविधियां दिख रही हैं। बड़ी मुश्किल से सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर चिन्मयानंद की जांच के लिए एसआईटी बनी पर उसने तमाम प्राथमिक साक्ष्य होने के बावजूद बलात्कार का मुकदमा दर्ज नहीं किया। सो, उनके खिलाफ सिर्फ आपत्तिजनक आचरण का मुकदमा चलेगा, जिसमें उनको कभी भी जमानत मिल सकती है। पर आरोप लगाने वाली लड़की को ब्लैकमेलिंग के आरोप में जेल में बंद कर दिया गया है और उसे जमानत मिलने में ज्यादा मुश्किल होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares