बिहार के दोनों उप मुख्यमंत्रियों की किरकिरी

बिहार में भाजपा ने कमाल किया है। किसी को समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जेपी नड्डा और भूपेंद्र यादव ने तार किशोर प्रसाद और रेणु देवी में ऐसा क्या देखा, जो इन दोनों को उप मुख्यमंत्री बनाया? तार किशोर इससे पहले तीन बार विधायक बने हैं और कभी भी उनको मंत्री बनने के लायक नहीं समझा गया। वे 12वीं पास हैं। इस बार उनको सीधे उप मुख्यमंत्री बनाया गया। इसी तरह रेणु देवी भी 12वीं पास हैं और उनको भी उप मुख्यमंत्री बना दिया गया। बतौर विधायक या नेता कभी भी तार किशोर प्रसाद या रेणु देवी ने कोई ऐसा काम नहीं किया है, जिससे लगे कि उनके पास कोई दृष्टि है या नजरिया है, बिहार के विकास का। अपने चुनाव क्षेत्र से बाहर इन दोनों के लिए कोई दुनिया नहीं है।

शपथ लेने के बाद दोनों अलग अलग वीडिया वायरल हो रहे हैं, जिनसे उनकी समझदारी का पता चल रहा है। एक वीडिया में तार किशोर प्रधानमंत्री का नाम ही भूल जाते हैं। वे पहले प्रधानमंत्री नीतीश कुमार को बताते हैं और फिर सुशील मोदी को, बाद में पीछे से कोई नरेंद्र मोदी का नाम बताते है तो प्रधानमंत्री का नाम ले पाते हैं। इसी तरह रेणु देवी एक इंटरव्यू में बार बार मौजूदा साल को 20 हजार 20 कहे जा रही हैं। इन दोनों नेताओं के चयन से बिहार प्रदेश नेतृत्व और आम बिहारियों के प्रति भी भाजपा की हिकारत का पता चलता है। ऐसा लग रहा है कि बिहारियों की सामूहिक समझ का अपमान करने के लिए इन दोनों को चुन कर भाजपा के हिस्से का सर्वोच्च पद दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares