nayaindia congress BJP Nitin Gadkari भाजपा नेताओं को कांग्रेस का न्योता
देश | महाराष्ट्र | राजरंग| नया इंडिया| congress BJP Nitin Gadkari भाजपा नेताओं को कांग्रेस का न्योता

भाजपा नेताओं को कांग्रेस का न्योता

Listen to Gadkaris advice

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा शुरू हुई तो पार्टी को सलाह दी गई है कि पहले कांग्रेस जोड़ो यात्रा निकालने की जरूरत है। भाजपा हमेशा इस बात को हाईलाइट करती रहती है कि कांग्रेस में एकजुटता नहीं है और पार्टी बुरी तरह से बंटी हुई है। अब कांग्रेस यहीं दांव भाजपा पर आजमा रही है। भाजपा के जिन नेताओं को पदों से हटाया गया है या राजनीति में हाशिए पर डाला गया है, कांग्रेस नेता उनको न्योता भेज रहे हैं। इतना ही नहीं नितिन गडकरी जैसे बड़े नेता को भी कांग्रेस के एक नेता ने न्योता भेज दिया। ध्यान रहे गडकरी को पिछले दिनों भाजपा के संसदीय बोर्ड हटाया गया। वे केंद्र सरकार में मंत्री हैं लेकिन पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाते वे भाजपा संसदीय बोर्ड के सदस्य थे। पिछले दिनों बोर्ड का पुनर्गठन हुआ तो उनको हटा दिया गया। उससे पहले और बाद में भी वे ऐसे बयान देते रहे हैं, जिससे यह मैसेज निकलता है कि वे नाराज हैं।

बहरहाल, वे नाराज हों या निराश हों लेकिन कांग्रेस रणनीति के तहत उनकी कथित नाराजगी को हाईलाइट करना शुरू कर दिया है। महाराष्ट्र के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने गडकरी को कांग्रेस में शामिल होने का न्योता दिया है। ध्यान रहे पटोले विदर्भ इलाके के बड़े ओबीसी नेता हैं और उन्होंने पिछला लोकसभा चुनाव नागपुर सीट पर गडकरी के खिलाफ लड़ा था। वे यह भी जानते हैं कि पिछले दिनों गडकरी ने कहा कि उनकी राजनीति के शुरुआती दिनों में भी जब उनको कांग्रेस में जाने को कहा जाता था तो वे कहते थे कि कुएं में कूद जाएंगे पर कांग्रेस में नहीं जाएंगे। इसके बावजूद पटोले ने उनको कांग्रेस में आने का न्योता दिया। इसी तरह मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा नेता उमा भारती को कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने का न्योता दिया, जिसे उमा भारती ने जोक बता कर खारिज कर दिया। हालांकि सबको पता है कि भाजपा आलाकमान और प्रदेश नेतृत्व के साथ उनके अच्छे संबंध नहीं हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चुनाव आयोग पर सुप्रीम कोर्ट की बेबाकी!
चुनाव आयोग पर सुप्रीम कोर्ट की बेबाकी!