Congress party political crisis दूसरी पार्टियों से आए कांग्रेस नेताओं का मोहभंग
राजरंग| नया इंडिया| Congress party political crisis दूसरी पार्टियों से आए कांग्रेस नेताओं का मोहभंग

दूसरी पार्टियों से आए कांग्रेस नेताओं का मोहभंग

CM contender of Congress

कांग्रेस पार्टी की राजनीति की एक खास बात रही है, जो इसे भाजपा से अलग बनाती है। भाजपा से अलग होकर कोई नेता सफल नहीं होता है लेकिन कांग्रेस से अलग होकर नेता खूब सफल होते हैं और दूसरा फर्क यह है कि कांग्रेस या दूसरी पार्टियों से भाजपा में जाकर नेता वहां रम जाते हैं लेकिन किसी दूसरी पार्टी से कांग्रेस में शामिल होने वाले नेता को जमने में बड़ी दिक्कत होती है। हालांकि राहुल गांधी ने दूसरी पार्टियों के कई नेताओं को खासा महत्व दिया है और सिद्धरमैया को तो उन्होंने मुख्यमंत्री ही बनवा दिया था। इसके बावजूद कांग्रेस के नेताओं और आलाकमान की राजनीति का स्ट्रक्चर कुछ ऐसा है कि वहां दूसरे नेता जम नहीं पाते हैं। Congress party political crisis

Read also यह कैसा भारत बन रहा है?

पिछले कुछ समय में इधर-उधर से जितने नेता कांग्रेस में गए उनमें से लगभग सभी का मोहभंग हो गया है। भारतीय जनता पार्टी की बरसों तक राजनीति करने वाले कीर्ति आजाद को कांग्रेस ने काफी तवज्जो दी। उनको बिहार से लेकर झारखंड की ब्राह्मण बहुलता वाली धनबाद सीट पर चुनाव भी लड़ाया लेकिन वे पार्टी छोड़ कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। इसी  तरह भाजपा छोड़ कर कांग्रेस में शामिल होने वाले शत्रुघ्न सिन्हा का भी मोहभंग हो गया है। उनकी भी तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी से बात हुई थी। ऐसे ही शिव सेना छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हुए संजय निरूपम का भी मोहभंग लगभग पूरा हो गया है। इन तीनों नेताओं में एक और चीज कॉमन है कि ये तीनों बिहार के हैं। Congress party political crisis

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भाजपा के केंद्रीय कार्यालय में कोरोना विस्फोट, संक्रमित हुए 30 से ज्यादा लोग, नेताओं में हड़कंप
भाजपा के केंद्रीय कार्यालय में कोरोना विस्फोट, संक्रमित हुए 30 से ज्यादा लोग, नेताओं में हड़कंप