nayaindia किसी ने राष्ट्रपति से अपील नहीं की - Naya India
राजरंग| नया इंडिया|

किसी ने राष्ट्रपति से अपील नहीं की

आमतौर पर किसी भी संकट की स्थिति में राजनीतिक दल राष्ट्रपति से अपील करते हैं। जब उनको लगता है कि सरकार विफल हो रही है या सरकार समस्या को सुलझाने के लिए प्रयास नहीं कर रही है तो पार्टियां राष्ट्रपति से अपील करती हैं। लेकिन अभी इतने बड़े संकट में कोई भी पार्टी राष्ट्रपति से अपील नहीं कर रही है। आखिरी बार केंद्रीय कृषि कानूनों और किसानों के आंदोलन को लेकर विपक्षी पार्टियों ने राष्ट्रपति से दखल देने की अपील की थी। उसके बाद से कोई पहल नहीं की गई है।

यहां तक कि विपक्षी पार्टियां अब सीधे प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिख रही हैं। पहले आमतौर पर चिट्ठी राष्ट्रपति को लिखी जाती थी। लेकिन पिछले कुछ दिनों में यह देखने को मिला है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राज्यसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और 12 पार्टियों के नेताओं ने साझा चिट्ठी प्रधानमंत्री को लिखी है। राज्यों के मुख्यमंत्री भी कोरोना संकट के बीच चिट्ठी प्रधानमंत्री को ही लिख रहे हैं।

यह अलग बात है कि इन चिट्ठियों का जवाब प्रधानमंत्री नहीं देते हैं। किसी की चिट्ठी का जवाब हर्षवर्धन देते हैं तो किसी का जवाब निर्मला सीतारमण देती हैं तो किसी का जवाब जेपी नड्डा देते हैं। बहरहाल, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का पिछले दिनों ऑपरेशन हुआ था। कोरोना वायरस का टीका लगवाने के थोड़े दिन बाद उनको हृदय संबंधित कुछ समस्या आई थी, जिसके बाद ऑपरेशन करना पड़ा था। लेकिन अब अस्पताल से लौट कर आए हुए उन्हें काफी समय हो गया है। इसके बावजूद उनकी कोई सक्रियता नहीं दिख रही है। क्या राजनीतिक दल उनकी सेहत की वजह से उनको चिट्ठी नहीं लिख रहे हैं और उनसे अपील नहीं कर रहे हैं या ऐसा करने की औपचारिकता निभाना भी जरूरी नहीं समझ रहे हैं?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − 10 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राहुल संविधान दिवस पर अंबेडकर की जन्मस्थली महू का दौरा करेंगे
राहुल संविधान दिवस पर अंबेडकर की जन्मस्थली महू का दौरा करेंगे