क्या अब कोरोना से लड़ाई गंभीर होगी?

हिंदी फिल्मों के महानायक अमिताभ बच्चन कोराना वायरस के बारे में जागरूकता फैलाने वाला सरकारी विज्ञापन करते थे। वे आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने की नसीहत देते थे। इसी तरह अनुपम खेर सरकार के हर कदम का समर्थन करते रहे हैं। अब इन दोनों के परिवार में कोरोना वायरस का प्रवेश हो गया है। दोनों पूरी सावधानी बरतते होंगे और हर तरह से सक्षम हैं, फिर भी इनके परिवार के सदस्यों को कोरोना हुआ है तो इसका मतलब है कि इस वायरस को लेकर अतिरिक्त सावधानी की जरूरत है। इसका एक सबक यह भी है कि फिल्म उद्योग में पिछले दिनों अनलॉक के बाद शूटिंग वगैरह शुरू हुई और उसी का नतीजा है कि बच्चन परिवार में कोरोना घुसा है, अनुपम खेर के परिवार के लोग संक्रमित हुए हैं और फिल्म अभिनेत्री रेखा का बंगला सील करना पड़ा है।

सो, अब उम्मीद की जानी चाहिए कि कोरोना वायरस से लड़ाई को ज्यादा गंभीरता से लिया जाएगा। सरकार भी हर इस बारे में गंभीरता से सोचेगी। अभी सरकार सिर्फ यह सोच रही है कि किस तरह से सारी सेवाएं चालू हो जाएं और सारे उत्पाद बिकने लगें ताकि उसका खजाना भरे। पर सब कुछ ओपन करने की उसकी पॉलिसी लोगों का जीवन संकट में डाल रही है। इसलिए सरकार को सब कुछ ओपन करने की अपनी नीति के बारे में सोचना चाहिए। राज्यों में सरकारें तो स्थानीय स्तर पर नियंत्रण के उपाय कर रही हैं पर केंद्र सरकार को और कोरोना से मुकाबले के लिए बनाई गई संस्थाओं को इस पर विचार करना चाहिए। बड़े लोगों के संक्रमित होने के साथ साथ एक हकीकत यह भी है कि देश में अब हर दिन रिकार्ड संख्या में कोरोना संक्रमण के मामले आ रहे हैं। चार दिन में एक लाख केसेज आ रहे हैं और इनके रूकने की कोई सूरत अभी नहीं दिखाई दे रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares