गवर्नमेंट नहीं गोल्ड का सहारा - Naya India coronavirus disaster indian economy
राजरंग| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%% %%sitename%% coronavirus disaster indian economy

गवर्नमेंट नहीं गोल्ड का सहारा

Gold Loan

coronavirus disaster indian economy : भारत सरकार की वित्त मंत्री ने हाल में छह लाख 30 हजार करोड़ रुपए के एक आर्थिक पैकेज का ऐलान किया। उससे पहले पिछले साल उन्होंने करीब 21 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया था। दोनों पैकेज लोगों को कर्ज की गारंटी देने वाले थे। सरकार ने आर्थिक पैकेज के जरिए लोगों को सिर्फ कर्ज लेने के लिए प्रेरित करने का काम किया। लेकिन हैरानी की बात है कि लोग सरकार के इतने बड़े पैकेज के बावजूद उससे कर्ज नहीं ले रहे हैं, बल्कि सोना गिरवी रख कर कर्ज ले रहे हैं और अपना जीवन चला रहे हैं।

RBI

भारतीय रिजर्व बैंक की अपनी रिपोर्ट से पता चला है कि पिछले साल मार्च में कोरोना वायरस की लहर शुरू होने के बाद सोना गिरवी रख कर कर्ज लेने वालों की संख्या में अचानक बड़ा इजाफा हुआ है। लोगों की हालत ऐसी हो गई है कि वे अपनी बुनियादी जरूरतों के लिए सोना गिरवी रख रहे हैं। coronavirus disaster indian economy गिरवी रखा सोना वापस लेने वालों की संख्या भी अचानक गिर गई है, जिससे कर्ज देने वालों बैंकों में सोने की नीलामी तेज हो गई है।

यूपी में किसान वोट बांटने का खेल

इससे देश की अर्थव्यवस्था और आम लोगों की हालत का असली अंदाजा होता है। रिजर्व बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा तेज विकास गोल्ड लोन के सेगमेंट में हुआ है। यह सेगमेंट 33.8 फीसदी की रफ्तार से बढ़ा है। मई 2020 से मई 2021 तक 15,686 करोड़ रुपए का गोल्ड लोन लिया गया। यह सरकारी बैंकों का आंकड़ा है। मई 2020 से पहले सरकारी बैंकों का कुल गोल्ड लोन 46 हजार करोड़ था, जो मई 2021 में बढ़ कर 62 हजार करोड़ हो गया। लेकिन यह तस्वीर का एक पहलू है। गोल्ड लोन देने वाली कंपनियों ने इससे कई गुना ज्यादा कर्ज दिया है।

Petrol के दामों ने फिर भरी उड़ान, दिल्ली में शतक से एक कदम दूर, जानें आज के ताजा भाव

अकेले मन्नापुरम गोल्ड लोन ने एक साल में 95 हजार करोड़ रुपए का गोल्ड लोन दिया। उसका गोल्ड एक लाख 68 हजार करोड़ से बढ़ कर दो लाख 62  हजार करोड़ पहुंच गया है। आम लोगों का संकट कितना भयावह है यह इस बात से पता चलता है कि इस कंपनी ने इस साल मार्च की तिमाही में 404 करोड़ का सोना नीलाम किया, जबकि इससे पहले की तीन तिमाही में सिर्फ आठ करोड़ रुपए का सोना नीलाम किया गया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
SC ने पारसी तौर तरीके से शव का अंतिम संस्कार करने की इजाजत नहीं दी.. जानें क्या है ‘दोखमेनाशिनी’
SC ने पारसी तौर तरीके से शव का अंतिम संस्कार करने की इजाजत नहीं दी.. जानें क्या है ‘दोखमेनाशिनी’