Gujarat nitinbhai patel bjp फिर रह गए नितिन पटेल
राजनीति| नया इंडिया| Gujarat nitinbhai patel bjp फिर रह गए नितिन पटेल

फिर रह गए नितिन पटेल

Nitin Patel

नरेंद्र मोदी और अमित शाह की कमान वाली भाजपा की यह खासियत है कि इसमें किसी पद के लिए जिसका नाम चर्चा में आ जाए तो वह फिर कभी उस पद पर नहीं पहुंच पाता है। अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी की कमान वाली भाजपा में महीनों पहले से नाम की चर्चा शुरू हो जाती थी और जिसके नाम की चर्चा होती थी वहीं बनता था। लेकिन मोदी-शाह ने इसे बदल दिया। अब जिसके नाम की चर्चा मीडिया में हो जाएगी वह नहीं बनेगा। ऐसा ही नितिन पटेल के साथ हो रहा है। गुजरात में पिछले सात साल में तीन बार मुख्यमंत्री बदला, हर बार उनके नाम की चर्चा हुई और हर बार वे सीएम बनते बनते रह गए। (Gujarat nitinbhai patel bjp)

जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद दिल्ली रवाना हुए तो नितिन पटेल के नाम की चर्चा हुई लेकिन आनंदी बने पटेल को कमान मिली। फिर आनंदी बेन पटेल का इस्तीफा हुआ तो फिर नितिन पटेल की चर्चा हुई लेकिन विजय रुपाणी को कमान मिली। 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद तो नितिन पटेल का सीएम बनना लगभग तय माना जा रहा था लेकिन फिर रुपाणी को दोबारा बना दिया गया। रुपाणी हटे तब भी नितिन पटेल सबसे प्रबल दावेदार थे लेकिन भूपेंद्र पटेल को कमान मिल गई।

Read also राहुल खुद को कितना साबित करें?

यह कहानी सिर्फ गुजरात की नहीं है, बल्कि हर राज्य में ऐसा ही होता है। उत्तराखंड में पिछले पांच साल में तीन मुख्यमंत्री बने। हर बार सतपाल महाराज और धन सिंह रावत के नाम की चर्चा हुई लेकिन तीनों बार दूसरे लोगों को पद मिला। हरियाणा में कैप्टेन अभिमन्यु और रामबिलास शर्मा सबसे प्रबल दावेदार बताए जा रहे थे लेकिन सीएम बने मनोहर लाल खट्टर। उत्तर प्रदेश में तो मनोज सिन्हा काशी विश्वनाथ के मंदिर पहुंच गए थे दर्शन करने और अचानक योगी आदित्यनाथ का नाम आ गया। मुख्यमंत्रियों के साथ साथ केंद्रीय मंत्री या राज्यपालों तक की नियुक्ति में यह ट्रेंड देखने को मिला है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भाजपा के सीएम दावेदार घोषित!
भाजपा के सीएम दावेदार घोषित!