श्रीलंका के चुनाव पर नजर रखे चुनाव आयोग!

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय चुनाव आयोग की मुश्किलें और उसकी दुविधा बढ़ती जा रही है। देश के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने चुनाव आयोग को श्रीलंका में पांच अगस्त को होने वाले संसदीय चुनावों पर नजर रखने को कहा है। उन्होंने कहा है कि श्रीलंका में होने वाले चुनावों से भारतीय  चुनाव आयोग को कुछ सूत्र मिलेंगे, जिनसे उसे बिहार के चुनाव कराने में मदद मिलेगी। गौरतलब है कि बिहार में इस साल के अंत में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं।

बिहार चुनाव से पहले और भी कई अहम चुनाव होने वाले हैं। जैसे बिहार में स्नात्तक चुनाव क्षेत्र में विधान परिषद के चुनाव होने वाले हैं। बिहार की एक लोकसभा सीट पर भी उपचुनाव होना है और मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। मध्य प्रदेश में तो 14 मंत्री ऐसे हैं, जिनको छह महीने में विधायक बनना है। बिहार में भी ऐसे दो मंत्री हैं, जिनका विधान परिषद का कार्यकाल मई में खत्म हो गया है।

उत्तर प्रदेश, केरल सहित कई और राज्यों में विधानसभा के उपचुनाव होने वाले हैं। बताया जा रहा है कि चुनाव आयोग सितंबर में सारे उपचुनाव और बिहार के विधान परिषद के चुनाव कराने की तैयारी में है। बिहार में जिस तरह से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है और देश भर में जैसे नेता बिरादरी संक्रमित हो रही है, उसे देखते हुए बहुत से लोगों को अंदेशा है कि बिहार विधानसभा चुनाव हो पाएंगे या नहीं। चुनाव आयोग भी इसी वजह से दुविधा में है। इसके बावजूद उसकी तैयारियां चल रही हैं। उसके सामने एक मॉडल श्रीलंका का है, जहां इसी हफ्ते चुनाव हो रहे हैं और दूसरा हांगकांग का है, जहां चुनाव एक साल के लिए टाल दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares