अमेरिका के बहाने किसानों को मोदी का संदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टिप्पणी तो अमेरिका में हुई हिंसा पर की थी, लेकिन निशाना किसान आंदोलन भी था। प्रधानमंत्री ने अपनी टिप्पणी में बहुत सावधानी से शब्दों का चयन किया। उन्होंने कहा कि गैरकानूनी प्रदर्शन से लोकतांत्रिक प्रक्रिया को बदलने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। यहीं बात केंद्र सरकार के मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता किसानों के आंदोलन के बारे में कह रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार ने लोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत संसद से पास करके कानून बनाया है, जिसे सड़क पर बैठ कर आंदोलन के जरिए नही बदलवाया जा सकता है। किसानों से बातचीत में भी इसका जिक्र हुआ है।

किसानों के प्रति हमदर्दी रखने वाले कई लोगों ने भी कहा है कि अगर सरकार झुकी और संसद से पास किए गए कानूनों को बदला गया तो इससे एक गलत नजीर बनेगी और उसके बाद कोई भी कहीं भी आंदोलन करके सरकार को कानून बदलने के लिए मजबूर करेगा। तभी ऐसा लग रहा है कि प्रधानमंत्री ने अमेरिका की घटना के बहाने अपनी सरकार का रुख साफ किया है। उन्होंने यह संकेत दिया कि प्रदर्शनों के जरिए लोकतांत्रिक प्रक्रिया को नहीं बदला जा सकता है। सरकार के मंत्रियों ने पहले यह बात इशारों में कही थी पर अब कृषि मंत्री ने खुल कर कह दिया है कि कानून नहीं बदला जाएगा, उसके अलावा किसी और प्रस्ताव पर विचार हो सकता है। लेकिन किसानों का भी कहना है कि कानून वापसी के अलावा किसी और बात पर चर्चा नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares