free scheme Aap party मुफ्त की राजनीति पर आप का पेटेंट
राजरंग| नया इंडिया| free scheme Aap party मुफ्त की राजनीति पर आप का पेटेंट

मुफ्त की राजनीति पर आप का पेटेंट

free scheme Aap party

वैसे तो चुनाव से पहले मतदाताओं की आंखों में धूल झोंकने के लिए मुफ्त चीजें देने की घोषणा बहुत पहले से होती रही है। दक्षिण भारत में तो पार्टियां इन्हीं घोषणाओं से चुनाव जीतती रही हैं। मुफ्त सिलाई मशीन, मुफ्त वाशिंग मशीन से शुरू हुआ सफर मुफ्त लैपटॉप, मुफ्त स्कूटी तक पहुंचा और पिछले कुछ चुनावों से तो तमिलनाडु में महिलाओं को मुफ्त में मंगलसूत्र देने का वादा भी किया जाने लगा। हालांकि एक फर्क यह है कि दक्षिण भारत में मुफ्त की चीजें बांटने के साथ साथ संस्थागत और संरचनात्मक विकास भी होता रहा। लेकिन दिल्ली और उत्तर भारत के दूसरे राज्यों में संरचनात्मक विकास बंद करके मुफ्त बांटने का काम हो रहा है।

बहरहाल, भले दक्षिण भारत के नेताओं ने छह दशक पहले मिड डे मील के रूप में स्कूलों में मुफ्त भोजन से शुरू करके अपने को मुफ्त चीजें बांटने की राजनीति का चैंपियन बनाया लेकिन आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का दावा है कि मतदाताओं को मुफ्त में चीजें बांटने का सिद्धांत वे राजनीति में लेकर आए हैं। हालांकि वे और उनकी पार्टी इस राजनीतिक सिद्धांत का पेटेंट कराने से चूक गए इसलिए दूसरी पार्टियों से इसकी रॉयल्टी नहीं वसूल पा रहे हैं। यहीं कारण है कि आप को रॉयल्टी दिए बगैर बाकी पार्टियां मुफ्त में चीजें बांटने की घोषणा कर रही हैं।

arvind Kejriwal zero bill

Read also संसद की फिर जरूरत क्या है?

तभी पिछले दिनों जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने मुफ्त चीजें और सेवाएं देने का प्रचार शुरू किया तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस पर सवाल उठाए। उन्होंने ट्विटर पर एक पोस्टर साझा किया, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फोटो के साथ मुफ्त टेस्ट, मुफ्त टीका, मुफ्त इलाज और मुफ्त राशनका प्रचार किया गया था। इस फोटो के साथ केजरीवाल ने लिखा- मुफ्त? मुफ्त? मुफ्त? इतना सारा मुफ्त? आप भी इतना सारा मुफ्त देने लगे? उन्होंने आगे लिखा- आम आदमी पार्टी ने राजनीति तो बदल दी। नेता अभी तक सब कुछ अपने लिए मुफ्त में करते थे। अब ये नहीं चलेगा। आम आदमी पार्टी ने सबको मजबूर कर दिया। अब आपको जनता के लिए काम करना पड़ेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भक्ति राजनीति की हानियां!
भक्ति राजनीति की हानियां!