वेणुगोपाल पर भी बड़ा सवाल

कांग्रेस पार्टी के अंदर चल रही उठापटक में पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को लेकर भी बड़ा सवाल है। कांग्रेस के कई नेता उनकी काबिलियत पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने पिछला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था पर राहुल गांधी उनको राजस्थान से राज्यसभा में ले आए हैं। हालांकि राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम में उनका कोई रोल बनता दिख नहीं रहा है। वे राजस्थान से राज्यसभा में हैं और पार्टी के संगठन महासचिव हैं इसके बावजूद उनको राज्य के घटनाक्रम का कुछ भी पता नहीं था। जब विधायकों के इधर-उधर जाने का सिलसिला शुरू हुआ तो वे केरल में थे। कांग्रेस से बागी हुए नेता सचिन पायलट ने उनसे संपर्क करने की बजाय पार्टी के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम से संपर्क किया। कायदे से राजस्थान का काम इस समय वेणुगोपाल को संभालना चाहिए था पर संभाल रहे हैं अजय माकन और रणदीप सुरजेवाला।

कांग्रेस के कई नेताओं का कहना है कि दिल्ली और देश में क्या हो रहा है, वेणुगोपाल को इसकी खबर ही नहीं होती है। राहुल ने उनको कर्नाटक का प्रभारी बनाया था पर कर्नाटक में सरकार ली गई और उनसे कुछ नहीं हो पाया। वहां भी बता रहे हैं कि कांग्रेस विधायकों की टूट-फूट शुरू हुई तो वेणुगोपाल को उसकी खबर नहीं थी। इन दिनों कांग्रेस मुख्यालय में केसीवी नाम से पुकारे जा रहे वेणुगोपाल की बजाय कर्नाटक में भी जो थोड़ी बहुत भागदौर हुई वह डीके शिवकुमार ने की और मुख्यमंत्री सिद्धरमैया मोर्चा संभाले रहे। अपनी उस नाकामी के बाद भी राहुल ने उनको राजस्थान से राज्यसभा में भिजवा दिया है। कांग्रेस को बहुत कम सीटें मिल रही थीं फिर भी इस बार राहुल ने राजीव सातव और वेणुगोपाल दोनों को राज्यसभा में भिजवाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares