nayaindia कांग्रेस से बाहर जाकर सीएम बनते नेता - Naya India
राजरंग| नया इंडिया|

कांग्रेस से बाहर जाकर सीएम बनते नेता

अगर इस बात की पड़ताल की जाए कि सबसे ज्यादा किस पृष्ठभूमि का लोग मुख्यमंत्री हैं तो हैरान करने वाला नतीजा आएगा। इस समय भले 18 राज्यों में भाजपा या उसकी सहयोगी पार्टियों की सरकार है पर हकीकत यह है कि देश में इस समय सबसे ज्यादा मुख्यमंत्री कांग्रेस की पृष्ठभूमि वाले हैं। राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ की पृष्ठभूमि वालों के मुकाबले ज्यादा मुख्यमंत्री ऐसे हैं, जो या तो कांग्रेस के हैं या कांग्रेस छोड़ कर दूसरी पार्टी में गए हैं या कांग्रेस से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई है। इस कड़ी में सबसे ताजा नाम हिमंता बिस्वा सरमा का है। उन्होंने तो महज छह साल पहले ही कांग्रेस छोड़ी। राहुल गांधी की अनदेखी से नाराज होकर उन्होंने 2015 में कांग्रेस छोड़ी थी और सोमवार को उन्होंने असम के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। भाजपा ने उनको मुख्यमंत्री बनाया है।

इसी महीने में दो और नेताओं ने मुख्यमंत्री पद की शपथ, जो पहले कांग्रेस में थे। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी और पुड्डुचेरी में एन रंगास्वामी ने इस महीने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। ये दोनों पहले कांग्रेस में थे और कांग्रेस से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई थी। कांग्रेस से अलग होने के बाद रंगास्वामी दूसरी बार और ममता बनर्जी तीसरी बार मुख्यमंत्री बनी हैं। कांग्रेस छोड़ कर अलग पार्टी बनाने वाले दो नेता दक्षिणी राज्यों में मुख्यमंत्री हैं। जगन मोहन रेड्डी ने कोई आठ-नौ साल पहले कांग्रेस से अलग होकर पार्टी बनाई थी और 2019 में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव भी पहले कांग्रेस में थे और कांग्रेस से अलग होकर अपनी पार्टी बनाई थी। पूर्वोत्तर के राज्यों में अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू और मेघालय के कोनरेड संगमा भी पहले कांग्रेस में थे। मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह भी पहले कांग्रेस में थे और 2016 में वे भाजपा में शामिल हुए। नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो ने भी 1993 में अपना राजनीतिकर जीवन कांग्रेस के साथ शुरू किया था और पहली बार कांग्रेस की टिकट पर ही विधायक बने थे।

इस तरह नौ राज्यों के मुख्यमंत्री तो ऐसे हैं, जो पहले कांग्रेस में थे और कांग्रेस के अपने तीन मुख्यमंत्री हैं। यानी कांग्रेस की पृष्ठभूमि वाले 12 नेता इस समय मुख्यमंत्री हैं। अगर इसकी तुलना संघ की पृष्ठभूमि वाले नेताओं से करें तो उनकी संख्या कम पड़ जाएगी। संघ की पृष्ठभूमि वाले मुख्यमंत्रियों की संख्या नौ है। इस तरह देश के 28 में से 12 राज्यों में कांग्रेसी पृष्ठभूमि वाले, नौ राज्यों में संघ-भाजपा की पृष्ठभूमि वाले और बचे हुए सात राज्यों में गैर कांग्रेसी या गैर भाजपाई मुख्यमंत्री हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.

5 × 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
विपक्ष बनवा रहा है एकक्षत्रपता
विपक्ष बनवा रहा है एकक्षत्रपता