Petrol Diesel Prices Stable पेट्रोल, डीजल की कीमत कैसे स्थिर है
राजरंग| नया इंडिया| Petrol Diesel Prices Stable पेट्रोल, डीजल की कीमत कैसे स्थिर है

पेट्रोल, डीजल की कीमत कैसे स्थिर है

Petrol Diesel Prices Stable

भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें स्थिर हैं। पिछले करीब एक महीने से इनकी कीमतें नहीं बढ़ी हैं। सोचें, सितंबर के आखिर में केंद्र सरकार की पेट्रोलियम कंपनियों ने कीमतों में बढ़ोतरी शुरू की थी और अक्टूबर के आखिर तक लगभग हर दिन कीमत में बढ़ोतरी की गई। सितंबर के आखिर में कंपनियों ने कीमत इसलिए बढ़ानी शुरू की क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 65 डॉलर प्रति बैरल से बढ़ने लगी थी। चूंकि कहने को कीमतों का निर्धारण बाजार के हिसाब से होना है इसलिए कहा जाता है कि इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं होती है। इसलिए जब कच्चे तेल के दाम 65 डॉलर से बढ़ने लगे तो घरेलू कंपनियों ने भी दाम बढ़ाए। Petrol Diesel Prices Stable

Read also देशहित में वापिस हुए कृषि कानून

लेकिन अब जबकि कच्चे तेल की कीमत 78 डॉलर प्रति बैरल है तब भी कीमत स्थिर है। आखिरी बार तीन नवंबर को दाम बढ़ाए गए थे। उस समय भी कच्चे तेल की कीमत 85 डॉलर प्रति बैरल थी। लेकिन उसके बाद अचानक दोनों ईंधनों की कीमत में बढ़ोतरी का सिलसिला थम गया। उसके बाद केंद्र सरकार ने डीजल पर उत्पाद शुल्क में 10 रुपए और पेट्रोल पर पांच रुपए प्रति लीटर की कटौती की। सरकार का कटौती करना समझ में आता है क्योंकि उसने इस शुल्क में अनाप-शनाप बढ़ोतरी की थी तो चुनाव आने पर कटौती की। लेकिन पेट्रोलियम कंपनियों ने किस तर्क से बढ़ोतरी स्थिर रखी है? जाहिर है यह सिर्फ भ्रम है कि कीमतें बाजार के हिसाब से तय होती है। असल में कीमत राजनीति के हिसाब से तय होती है। पांच राज्यों में चुनाव हैं तो सरकार के कहने पर कीमत स्थिर रखी गई है। ऐसे ही मार्च से मई के पहले हफ्ते तक पांच राज्यों के चुनाव के कारण कीमतें नहीं बढ़ी थीं।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
UP: कमल को छोड़ साइकिल सवारी को तैयार ‘स्वामी प्रसाद मौर्य’, सपा में शामिल होने का ऐलान
UP: कमल को छोड़ साइकिल सवारी को तैयार ‘स्वामी प्रसाद मौर्य’, सपा में शामिल होने का ऐलान