राजनीति| नया इंडिया| Rahul Gandhi agricultural laws राहुल के खिलाफ कैसे कैसे तर्क

राहुल के खिलाफ कैसे कैसे तर्क

rahul gandhi

Rahul Gandhi agricultural laws राहुल गांधी देश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के नेता हैं तो उनका काम है सरकार का विरोध करना सो, वे विरोध करते हैं। लेकिन ऐसा लग रहा है कि वे जितना सरकार का विरोध करते हैं उससे ज्यादा सरकार के मंत्री और सत्तारूढ़ पार्टी के नेता उनका विरोध करते हैं। जब उनका विरोध करने के लिए तर्कसंगत बातें नहीं होती हैं तो कुतर्कों या अजीबोगरीब तर्कों से भी उनका विरोध किया जाता है। राहुल गांधी सोमवार को ट्रैक्टर चला कर संसद पहुंचे और केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों का विरोध किया। यह विरोध का एक तरीका होता है, जैसे पेट्रोल-डीजल की महंगाई का विरोध करने के लिए किसी जमाने में अटल बिहारी वाजपेयी बैलगाड़ी से संसद गए थे।

Read also शी की यात्रा पर भारत की चुप्पी!

सो, राहुल ट्रैक्टर से संसद पहुंचे तो उसको नौटंकी बता कर विरोध करने के अलावा सबसे अजीब तर्क कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने दिया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी जितने लोगों को ट्रैक्टर पर बैठा कर लाए वह ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन था। सोचें, केंद्रीय कृषि मंत्री के तर्क पर! अगर यह ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन था तो ट्रैफिक पुलिस उसका चालान काटेगी, केंद्रीय कृषि मंत्री को तो उनके उठाए मुद्दों का जवाब देना चाहिए!

Read also किसानों के मामले में अदालत क्यों चुप?

इससे दो-चार दिन पहले नई विदेश राज्यमंत्री मीनाक्षी लेखी ने राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा कि अगर महामारी के दौरान राहुल ने अपनी भूमिका ठीक तरीके से निभाई होती तो लोगों को इतनी दिक्कत नहीं होती। इस टिप्पणी को लेकर लेखी सोशल मीडिया में काफी ट्रोल हुई हैं। लोग पूछ रहे हैं कि राहुल गांधी क्या प्रधानमंत्री या स्वास्थ्य मंत्री थे, जो उन्होंने अपनी भूमिका ठीक से नहीं निभाई? यह भी पूछा जा रहा है कि अगर विपक्ष के नेता के नाते उन्होंने किसी सरकारी काम में बाधा डाली तो आपदा प्रबंधन कानून के तहत उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं हुई? बहरहाल, केंद्रीय मंत्री बनने के बाद लेखी अपना एक अलग ही रूप दिखा रही हैं। इसी तरह से कोरोना की पहली लहर के दौरान राहुल गांधी दिल्ली से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों के एक परिवार से राहुल गांधी सड़क पर मिले थे तब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि राहुल ने मजदूरों का समय खराब किया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग

देश

विदेश

खेल की दुनिया

फिल्मी दुनिया

लाइफ स्टाइल

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आक्सीजन की कमी से जूझता महाराष्ट्र और फोन लगाते रहे सीएम उद्धव ठाकरे, प्रधानमंत्री रैली में थे, नहीं हुई बात