मरांडी और सुदेश के लिए आखिरी मौका है - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

मरांडी और सुदेश के लिए आखिरी मौका है

झारखंड में दो क्षेत्रीय नेताओं के लिए इस बार का चुनाव करो या मरो वाला है। झारखंड विकास मोर्चा के नेता बाबूलाल मरांडी और ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन के नेता सुदेश महतो के अपना अस्तित्व बचाए रखने के लिए यह सबसे अहम चुनाव है। सुदेश महतो तीन चुनाव लगातार हारे हैं।

वे 2014 में लोकसभा का चुनाव हारे, फिर अपनी सिल्ली सीट पर विधानसभा चुनाव हारे और उनकी सीट पर उपचुनाव हुआ तो उसमें भी हारे। तभी पांच साल तक भाजपा के साथ अपनी पार्टी के सत्ता में रहने के बावजूद वे सत्ता से बाहर रहे। सो, अगर वे इस बार नहीं जीतते हैं तो संभव है कि पार्टी भी हाथ से निकल जाए। उनकी पार्टी के नेताओं पर भाजपा की नजर है। ध्यान रहे भाजपा उनकी पार्टी का विलय भी पहले से ही चाहती है।

दूसरी ओर बाबूलाल मरांडी भाजपा से अलग होने के बाद से ही सत्ता के लिए भटक रहे हैं। उन्होंने अपनी नई पार्टी बना कर दो बार विधानसभा का चुनाव लड़ा। पहली बार वे 11 सीट जीते और दूसरी बार में आठ पर उनको सत्ता नसीब नहीं हुई। पिछली बार तो वे आठ में से छह विधायक भाजपा में चले गए थे। वे खुद तीन बार लोकसभा और दो बार विधानसभा का चुनाव लड़ कर हार चुके। इस बार उनकी पार्टी के बहुत अच्छा प्रदर्शन करने का अंदाजा नहीं है पर अगर वे खुद जीत जाते हैं तो उनकी पार्टी और आगे की राजनीति दोनों बची रहेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Whatsapp ने लॉन्च किया View Once नाम का नया फीचर, चैट में फोटो और वीडियो देखने के बाद हो जाएगी डिलीट
Whatsapp ने लॉन्च किया View Once नाम का नया फीचर, चैट में फोटो और वीडियो देखने के बाद हो जाएगी डिलीट