येदियुरप्पा कब करेंगे सरकार का विस्तार?

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा जान बूझकर अपनी सरकार का विस्तार टाल रहे हैं या सचमुच उनको दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से हरी झंडी नहीं मिल रही है? खबर है कि मोदी और शाह उनको मिलने का समय नहीं दे रहे हैं। पर यह बहाना ही लग रहा है क्योंकि येदियुरप्पा कोई मामूली नेता नहीं हैं, जो उनके आलाकमान से समय नहीं मिलेगा। सब जानते हैं कि कर्नाटक में भाजपा की जीत बुनियादी रूप से उनकी जीत होती है। तभी ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस और जेडीएस के जो बागी विधायक भाजपा की टिकट से उपचुनाव जीते हैं उनको मंत्री बनाने में देरी के लिए बहानेबाजी की जा रही है।

ध्यान रहे कर्नाटक में पांच दिसंबर को 15 सीटें के उपचुनाव हुए थे और नौ दिसंबर को नतीजे भी आ गए थे। सो, वादे के मुताबिक येदियुरप्पा को मंत्रिमंडल का विस्तार कर देना चाहिए था। पर उन्होंने इसे एक हफ्ते टाल दिया और 16 दिसंबर के बाद मलमास का बहाना बना कर एक महीने और टाल दिया। अब उन्होंने कहा है कि 18 जनवरी को अमित शाह नागरिकता मसले पर सभा करने कर्नाटक आएंगे तब उनसे इस बारे में बात होगी। असल में भाजपा नेताओं को इस बात की चिंता सता रही है कि अगर कांग्रेस और जेडीएस के सभी बागियों को या ज्यादातर को मंत्री बनाया गया तो पार्टी के अपने नेता नाराज होंगे। कांग्रेस और जेडीएस इस नाराजगी का फायदा उठा सकते हैं। तभी मंत्रिमंडल विस्तार को ज्यादा से ज्यादा समय तक टालने का प्रयास हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares