nayaindia कश्मीर में दो नई पार्टियों पर नजर - Naya India
kishori-yojna
राजरंग| नया इंडिया|

कश्मीर में दो नई पार्टियों पर नजर

जम्मू कश्मीर में अभी चुनाव की घोषणा नहीं हुई है। एक साल से ज्यादा समय से विधानसभा भंग है पर जब तक परिसीमन का काम नहीं पूरा होगा, तब तक शायद ही चुनाव होगा। और परिसीमन का काम भी अभी शुरू नहीं हुआ है। फिर भी राज्य की राजनीति में दो नई पार्टियों के आने और बड़ी भूमिका निभाने की चर्चा जोर पकड़ने लगी है। यह चर्चा आम हो गई है कि राज्य की दोनों पुरानी प्रादेशिक पार्टियां- नेशनल कांफ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी यानी पीडीपी के दिन अब लद गए हैं और ये दोनों भविष्य की राजनीति को बहुत प्रभावित नहीं कर पाएंगी। इनकी बजाय दो नई प्रादेशिक पार्टियों के उभरने और दोनों राष्ट्रीय पार्टियों- कांग्रेस और भाजपा के मजबूत होने का अंदाजा लगाया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि सैयद अल्ताफ बुखारी नई पार्टी बनाने जा रहे हैं। उन्हें केंद्र सरकार और भाजपा का समर्थन हासिल है। पिछले दिनों विदेशी राजनयिकों का एक दल जम्मू कश्मीर के दौरे पर गया तो अल्ताफ बुखारी उनसे मिले थे और राज्य के हालात की जानकारी दी थी। उनकी पार्टी कश्मीर घाटी में भाजपा की मददगार बनेगी। दूसरी पार्टी इसकी बिल्कुल उलटी होगी। पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल और जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, जेएनयू छात्र संघ की नेता रही शहला रशीद मिल कर इस पार्टी को चलाएंगे। यह पार्टी भाजपा विरोधी राजनीति का स्पेस लेगी। इससे कांग्रेस, नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी तीनों को खतरा हो सकता है। ये दोनों युवा नेता बहुत आक्रामक अंदाज में भाजपा और मोदी-शाह के विरोध की राजनीति कर रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + 5 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार सोची-समझी राजनीति का हिस्सा…
मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार सोची-समझी राजनीति का हिस्सा…