चैंपियंस का मतलब जानते हैं?

यह बहुत दिलचस्प है पर हकीकत है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने पिछले छह साल में अनेक शब्दों के मायने बदल दिए हैं। प्रधानमंत्री को लग रहा है कि इससे बहुत प्यार है तभी केंद्र सरकार के अधिकारी हर केंद्रीय योजना के लिए ऐसा नाम तय करते हैं, जिसमें इस्तेमाल होने वाले लेटर्स से कुछ नया बने। जैसे अगर किसी से पूछा जाए कि चैंपिंयस का क्या मतलब होता है, तो वह क्या कहेगा? चैंपियन यानी जो विजेता होते हैं या बड़ा काम करते हैं। पर अब इसका दूसरा मतलब है। केंद्र सरकार ने सोमवार को एमएसएमई सेक्टर के लिए एक पोर्टल लांच किया, जिसका नाम रखा गया चैंपियंस, जिसका मतलब है- क्रिएशन एंड हारमोनियस एप्लीकेशन ऑफ मॉडर्न प्रोसेसेज फॉर इनक्रीजिंग द आउटपुट एंड नेशनल स्ट्रेंग्थ। यह उसी तरह है, जैसे किसी ने कहा कि कोरोना का मतलब है कोई रोड पर ना रहे।

बहरहाल, क्या भीम का मतलब जानते हैं? महाभारत वाले नहीं या संविधान बनाने वाले भी नहीं। एप वाला भीम, जिसका मतलब होता है- भारत इंटरफेस ऑफ मनी। हां, वहीं जिसके 70 लाख यूजर्स का डाटा लीक होने की खबर आई है। अच्छा पीएम केयर्स तो जानते ही होंगे, आखिर इसका इतना प्रचार हो रहा है? इसका मतलब होता है- प्राइम मिनिस्टर्स सिटिजन्स असिस्टेंस एंड रिलीफ इन इमरजेंसी सिचुएशन फंड। अगला ऐसा ही रोचक सवाल है कि क्या आप नीति का मतलब समझते हैं?

नीति का मतलब पॉलिसी! नहीं, इसका मतलब होता है- नेशनल इंस्टीट्यूशन फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया। है न रोचक! इतने पर ही बस नहीं है। पिछले छह साल में ऐसे दर्जनों शब्द बने हैं। जैसे सागर का मतलब सरकारी शब्दकोष में अब समुद्र नहीं होता है। इसका मतलब होता है- सिक्योरिटी एंड ग्रोथ फॉर ऑल इन द रीजन। यह पड़ोसी देशों के साथ बेहतर संबंधों के लिए शुरू की गई नीति है। जय का मतलब तो सब जानते हैं पर भारत सरकार के लिए जय का मतलब है- जापान, यूस, इंडिया यह कुछ कुछ ब्रिक्स की तरह है। आप चाहें तो ऐसे दर्जनों और शब्द खोज सकते हैं, जो पिछले छह साल में बने हैं। इन शब्दों से क्या बना है वह अलग बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares