nayaindia अब परमबीर पर आरोपों की बौछार - Naya India
राजरंग| नया इंडिया|

अब परमबीर पर आरोपों की बौछार

मुंबई पुलिस के पूर्व प्रमुख परमबीर सिंह ने पता नहीं खुद अपने किसी एजेंडे के तहत राज्य की महा विकास अघाड़ी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला या उनके ऊपर किसी किस्म का दबाव था, पर हकीकत यह है कि अगर वे राज्य सरकार को मुश्किल में डाल रहे हैं तो उनकी खुद की मुश्किलें भी बढ़ रही हैं। एक-एक करके उनके ऊपर भी आरोप लगने लगे हैं। हालांकि उन्होंने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर जो आरोप लगाए हैं वे सुने-सुनाए आरोप हैं। उन्होंने कहा है कि असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वझे ने उन्हें बताया था कि अनिल देशमुख ने उनसे एक सौ करोड़ रुपए की वसूली करने को कहा है। यह बात देशमुख ने खुद परमबीर को नहीं कही है। किसी और को कही, जिसने आगे परमबीर को बताई। लेकिन खुद परमबीर पर जो आरोप लग रहे हैं वे सीधे-सीधे आरोप हैं।

राज्य के सबसे वरिष्ठ पुलिस अधिकारी संजय पांडेय ने परमबीर सिंह के ऊपर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि वे जब राज्य के तत्कालीन एडीजी देवेन भारती की जांच कर रहे थे तब परमबीर सिंह ने बीच में दखल देकर जांच रूकवाई थी। संजय पांडेय राज्य के सबसे वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हैं और ऐसा नहीं है कि वे राज्य सरकार के करीबी हैं। उन्होंने कुछ दिन पहले ही राज्य सरकार से नाराजगी जताते हुए नौकरी छोड़ने की इच्छा जताई थी। सो, उनका आरोप मामूली नहीं है।

इसी तरह महाराष्ट्र पुलिस के इंस्पेक्टर अनूप डांगे ने परमबीर सिंह के ऊपर गंभीर आरोप लगाए हैं। डांगे इस समय सस्पेंड हैं और उनका कहना है कि परमबीर के करीबी अधिकारी उनको फिर से बहाल करने के बदले में दो करोड़ रुपए मांगे थे। डांगे ने यह भी कहा है कि जब वे एक पब बंद करवा रहे थे तो उसके मालिक जीतू नवलानी ने परमबीर के नाम से धमकी दी थी। डांगे का आरोप है कि परमबीर सिंह माफिया लिंक वाले लोगों को बचाते थे।

Leave a comment

Your email address will not be published.

twenty − 8 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
श्रीलंका की लाचारी
श्रीलंका की लाचारी