nayaindia maharashtra political crisis sharad सब शरद पवार कर रहे हैं
देश | महाराष्ट्र | राजरंग| नया इंडिया| maharashtra political crisis sharad सब शरद पवार कर रहे हैं

सब शरद पवार कर रहे हैं!

महाराष्ट्र में जब से सियासी ड्रामा शुरू हुआ तब से कई बार ऐसी खबरें आ चुकी हैं कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इस्तीफा देना चाहते हैं लेकिन शरद पवार उनको रोक रहे हैं। ताजा खबर है कि उद्धव ने संकट शुरू होने के बाद दो बार इस्तीफे की पेशकश की लेकिन पवार ने उनको रोक दिया। कहा जा रहा है कि जिस दिन उद्धव ने पहली बार फेसबुक लाइव किया था उस दिन भी वे इस्तीफे की घोषणा करने वाले थे लेकिन शरद पवार ने उनको ऐसा करने से रोक दिया। ध्यान रहे उस फेसबुक लाइव के तुरंत बाद उद्धव की पवार से मुलाकात हुई थी।

बहरहाल, जिस दिन महाराष्ट्र का सियासी संकट शुरू हुआ उसी दिन यानी 21 जून को खबर आई थी कि उद्धव मुख्यमंत्री नहीं बनना चाह रहे थे लेकिन शरद पवार ने उन पर दबाव डाल कर उनको सीएम बनवाया। सूत्रों के हवाले से यह भी बताया गया कि उद्धव चाहते थे कि एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाया जाए लेकिन पवार ने कहा कि गठबंधन को स्थायी बनाना है और स्थिर सरकार चलानी है तो उद्धव को ही मुख्यमंत्री बनना होगा। सवाल है कि जब सब शरद पवार कर रहे थे या कर रहे हैं तो उद्धव ठाकरे और उनकी पार्टी की क्या भूमिका है?

पहले तो पवार ने जबरदस्ती उद्धव को सीएम बनवा दिया और अब उनको इस्तीफा नहीं देने दे रहे हैं। इसके पीछे कई लोग पवार का खेल देख रहे हैं और कई तरह की साजिशों की चर्चा है। कहा जा रहा है कि पवार का खेल था कि ठाकरे परिवार को कमजोर करके शिव सेना को अप्रासंगिक कर दिया जाए और कांग्रेस को तोड़ कर एनसीपी में मिला लिया जाए। इससे भाजपा और एनसीपी दो ही प्रमुख पार्टियां बचेंगी। हो सकता है यह सही हो क्योंकि उद्धव अगर सीएम नहीं बने होते तो वे अपनी पार्टी की बगावत को हैंडल करने की बेहतर स्थिति में होते। अब भी इस्तीफा देकर वे बेहतर दांव खेल सकते हैं।

तभी सवाल है कि शरद पवार चाहे जो सोच रहे हों और कर रहे हों लेकिन शिव सेना के नेता अपने हितों के मुताबिक क्यों नहीं सोच रहे हैं? वे क्यों सब कछ वैसा ही कर रहे हैं, जैसा शरद पवार कह रहे हैं? क्या उद्धव ठाकरे, उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे और बेटे आदित्य ठाकरे सहित परिवार और पार्टी के सारे लोग इतने भोले हैं कि उनको पवार का खेल समझ में नहीं आ रहा है? या ठाकरे परिवार को पवार पर भरोसा है, जिसे साजिश थ्योरी का प्रचार करने वाले नहीं समझ पा रहे हैं? जो हो पवार पर निर्भरता उद्धव को ज्यादा कमजोर बना रही है और उनकी पार्टी भी कमजोर हो रही है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

sixteen + 10 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चीन और भारत की नोंक-झोंक
चीन और भारत की नोंक-झोंक