nayaindia maharashtra political crisis सिर्फ 16 विधायकों को ही नोटिस क्यों?
देश | महाराष्ट्र | राजरंग| नया इंडिया| maharashtra political crisis सिर्फ 16 विधायकों को ही नोटिस क्यों?

सिर्फ 16 विधायकों को ही नोटिस क्यों?

Shiv Sena BMC elections

शिव सेना के 38 विधायक बागी हुए हैं। पार्टी की 55 की संख्या के लिहाज से विभाजन के लिए जरूरी संख्या 37 की है इसका मतलब है कि दो-तिहाई से ज्यादा विधायक बागी होकर गुवाहाटी में बैठे हैं और उनकी वजह से सरकार अल्पमत में है। इसके बावजूद शिव सेना ने सिर्फ 16 विधायकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कहा है। सवाल है कि बाकी विधायकों के साथ शिव सेना क्या करना चाहती है, जो उनकी शिकायत डिप्टी स्पीकर से नहीं की है? ऐसा लग रहा है कि एकनाथ शिंदे सहित जिन 16 विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है उनके बारे में पार्टी मान रही है कि उनकी वापसी नहीं हो सकती है। इसलिए उनको सबक सिखाने और उनके जरिए बाकी विधायकों पर दबाव डालने का प्रयास किया जा रहा है।

कहा जा रहा है कि आधे से ज्यादा विधायकों के बारे में शिव सेना के नेता भरोसे में हैं कि वे घर वापसी कर लेंगे। य़ानी गुवाहाटी से छूट कर जिस दिन वे महाराष्ट्र पहुंचेंगे उस दिन वे शिव सेना के साथ आ जाएंगे। यह भी बताया जा रहा है कि उन विधायकों के परिजन शिव सेना के नेताओं के संपर्क में हैं। उन्होंने पार्टी सुप्रीमो उद्धव ठाकरे को भरोसा दिलाया हुआ है कि विधायक वापसी करेंगे। जानकार सूत्रों के मुताबिक भागे हुए कई विधायक अपने परिवार के लोगों के संपर्क में हैं और उनके जरिए शिव सेना प्रमुख को संदेश पहुंचाया है। भाजपा को भी इस बात का अंदाजा है इसलिए वह जल्दी नहीं कर रही है। उसको भी लग रहा है कि कुछ विधायक शिव सेना के साथ वापसी करेंगे इसलिए वह विधानसभा का सत्र बुला कर बहुमत साबित करने को नहीं कह रही है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

thirteen − two =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
शॉर्टकट से समाधान नहीं
शॉर्टकट से समाधान नहीं