nayaindia Manish Tewari create controversy मनीष तिवारी का मकसद विवाद खड़ा करना
राजरंग| नया इंडिया| Manish Tewari create controversy मनीष तिवारी का मकसद विवाद खड़ा करना

मनीष तिवारी का मकसद विवाद खड़ा करना

manish tewari manmohan government

कांग्रेस के नाराज नेताओं के समूह जी-23 में शामिल रहे पंजाब के सांसद मनीष तिवारी ने कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव से पहले चुनाव प्रक्रिया पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए जरूरी है कि अध्यक्ष के चुनाव में हिस्सा लेने वाले सभी मतदाताओं के नाम पार्टी की वेबसाइट पर डाला जाए। दूसरी ओर कांग्रेस के चुनाव प्राधिकरण के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री ने कहा है कि जिनको मतदाता सूची देखनी है वे प्रदेश कार्यालय में जाकर देख सकते हैं। उन्होंने आगे कहा है कि एक बार नामांकन दाखिल होने के बाद हर उम्मीदवार को सूची उपलब्ध करा दी जाएगी। यह एक सामान्य प्रक्रिया है, जिसमें कोई कमी नहीं दिख रही है।

लेकिन मनीष तिवारी वकील हैं और उन्होंने कमी निकालते हुए कहा कि जिसको नामांकन करना है अगर उसके पास सूची नहीं होगी और उसने गलत लोगों को प्रस्तावक बना लिया तो नामांकन रद्द हो जाएगा। यह बेसिरपैर का और सिर्फ बहस के लिए दिया गया तर्क है। क्योंकि जिसको नामांकन करना है वह कोई राह चलता नेता तो होगा नहीं। दूसरे, वह एक से ज्यादा प्रदेश कार्यालयों में खुद जाकर या अपने किसी सहयोगी को भेज कर सूची देख सकता है। तीसरे, जो प्रस्तावक बनेगा, उसको पता होगा कि वह उन नौ हजार लोगों में शामिल है या नहीं, जिनको अध्यक्ष के चुनाव में वोट करना है। लेकिन चूंकि गुलाम नबी आजाद ने सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी में कहा है कि संगठन के सारे चुनाव सिर्फ दिखावा और तमाशे की तरह हैं तो मनीष तिवारी इस बात को साबित करने में लगे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 + 20 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मोदी के बनाए गुजरात में है क्या?
मोदी के बनाए गुजरात में है क्या?