nayaindia नगालैंड में नहीं रहेगा विपक्ष | nagaland no opposition Naya India
राजरंग| नया इंडिया| नगालैंड में नहीं रहेगा विपक्ष | nagaland no opposition %%sitename%%

नगालैंड में नहीं रहेगा विपक्ष!

Nagaland

nagaland no opposition : नगालैंड देश का पहला राज्य बनने जा रहा है, जहां कोई विपक्ष नहीं होगा। राज्य की 60 सदस्यों की विधानसभा में सभी विधायक सत्ता पक्ष में होंगे। ऐसा नगा मुद्दों पर एकजुटता दिखाने और मिल कर नगा लोगों के हितों में काम करने की सोच के साथ किया जा रहा है। राज्य में सत्तारूढ़ पीपुल्स डेमोक्रेटिक एलायंस का नेतृत्व कर रही नेशनलिस्ट प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक पार्टी यानी एनपीडीपी ने इस बारे में फैसला कर लिया है और उसे भाजपा के साथ सहमति बनानी है।

Nagaland

 

भाजपा के नेता भी मोटे तौर पर इसके लिए तैयार हैं। कहा जा रहा है कि 24 जुलाई को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के शिलांग दौरे के बाद किसी समय इसका फैसला किया जा सकता है। हालांकि पूर्वोत्तर में एनडीए की जिम्मेदारी संभाल रहे असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि उनको इस बारे में जानकारी नहीं है पर कहा जा रहा है कि 16 जून को ही इस बारे में सत्तारूद दल से फैसला कर लिया था।

amit shah

Read also ममता ने फिर पीएम मोदी को कहा तानाशाह, बोलीं- BJP को सत्ता के बाहर करने तक जोरी रहेगा ‘खेला’

ध्यान रहे नगालैंड के विधानसभा चुनाव में नगा पीपुल्स फ्रंट यानी एनपीएफ 25 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनी थी लेकिन वह सरकार नहीं बना सकी। 20 सीटों पर जीतने वाली एनपीडीपी ने भाजपा के 12 विधायकों की मदद से सरकार बना ली और नेफ्यू रियो मुख्यमंत्री बन गए। गौरतलब है कि नगालैंड में पहले भी 2015 में सभी पार्टियों की सरकार बनी थी। उस समय कांग्रेस के आठ विधायक एनपीएफ में शामिल हो गए थे और बाद में पूरी पार्टी का ही विलय एनपीएफ में हो गया था। यह दूसरा मौका है, जब पूर्वोत्तर के इस राज्य में सभी पार्टियां सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल हो रही हैं। nagaland no opposition

Leave a comment

Your email address will not be published.

twelve − 11 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
जौहर विश्वविद्यालयः आजम की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा
जौहर विश्वविद्यालयः आजम की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा