छोटी पार्टियों का क्या होगा?

भाजपा की बड़ी सहयोगी पार्टियों में से शिव सेना बाहर हो गई है और जदयू को इस बार मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है। छोटी पार्टियों में अकाली दल और रामदास अठावले की आरपीआई को सरकार में जगह मिली हुई है। यह देखना दिलचस्प है कि भाजपा आगे क्या करती है। ध्यान रहे रामदास अठावले का राज्यसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। पिछली बार उनको शिव सेना की मदद से राज्यसभा भेजा गया था। इस बार अगर उनको मंत्री बनाए रखना है तो भाजपा को उन्हें फिर से राज्यसभा भेजना होगा।

महाराष्ट्र में इस बार राज्यसभा की सात सीटें खाली हो रही हैं, जिनमें से तीन सीटें भाजपा को मिलेंगी। इनमें से एक सीट वह अठावले को दे सकती है। शिव सेना के एनडीए से बाहर होने के बाद भाजपा के लिए जरूरी है कि आरपीआई उसके साथ रहे। ध्यान रहे खाली हो रही सीटों में से भाजपा की अपनी एक ही सीट है। वह एक सीट अठावले को देती है तब भी उसको एक सीट का फायदा होगा। बहरहाल, उत्तर प्रदेश से भाजपा की सहयोगी अपना दल को इस बार सरकार में नहीं शामिल किया गया है। अगली फेरबदल में अपना दल की अनुप्रिया पटेल भी मंत्री बन सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares