नेपाल के खेल में भारत कहां है? - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

नेपाल के खेल में भारत कहां है?

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली एक बार फिर प्रधानमंत्री बन गए हैं। संसद में बहुमत साबित नहीं कर पाने की वजह से पिछले हफ्ते उनको इस्तीफा देना पड़ा था। उसके बाद राज्यपाल विद्या भंडारी ने विपक्षी पार्टियों को सरकार बनाने का मौका दिया। नेपाली कांग्रेस पार्टी ने इसके लिए पहल भी की। उसे उम्मीद थी कि ओली और प्रचंड की वजह से कई खेमे में बंटी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार को समर्थन देने वाली कुछ पार्टियां अलग हो जाएंगी। कम्युनिस्ट पार्टी की कम से कम एक सहयोगी पार्टी के साथ आने की उम्मीद नेपाली कांग्रेस के नेता कर रहे थे। पर ऐसा नहीं हुआ और राष्ट्रपति ने अपनी दी समय सीमा समाप्त होने के बाद ओली को फिर से प्रधानमंत्री बहाल कर दिया। अब उनको अगले 30 दिन में बहुमत साबित करना है।

सवाल है कि नेपाल में चल रहा या यह सियासी खेल किसके इशारे पर हो रहा है? और उससे भी बड़ा सवाल है कि इस खेल में भारत कहा है? भारत के विदेश मंत्री लंदन जाकर क्वरैंटाइन हो गए हैं और ऐसा लग रहा है कि उनको कुछ आइडिया भी नहीं है कि नेपाल में क्या चल रहा है। जहां तक भारत सरकार का सवाल है तो वह नेपाल में असर रखने वाले समाजवादी और कम्युनिस्ट नेताओं का इस्तेमाल करके वहां की राजनीति को प्रभावित कर सकती है। पहले की सरकारें ऐसा करती रही हैं पर मोदी सरकार को कूटनीति में विपक्षी पार्टियों की भूमिका बनाना कबूल नहीं है। इस वजह से भारत अलग थलग हुआ है और इसी वजह से चीन को खेल करने का मौका मिला है। वैसे अंतरराष्ट्रीय जानकारों का मानना है कि प्रचंड के मुकाबले ओली भारत के लिए ज्यादा अच्छे हैं और जब वे प्रधानमंत्री बने थे तो उनको भारत का करीबी माना गया था। इसके बावजूद भारत उनका फायदा नहीं उठा पा रहा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});