अगस्ता मामले में किसी नेता का नाम नहीं!

अगस्ता वेस्टलैंड वीआईपी हेलीकॉप्टर खरीद के सौदे में हुए कथित घोटाले के मामले में सीबीआई ने पूरक आरोपपत्र दाखिल कर दिया है। इसमें किसी राजनेता का नाम आरोपी के तौर पर नहीं शामिल किया गया है। यहां तक कि उस समय के रक्षा सचिव और बाद में सीएजी बने शशिकांत शर्मा का नाम भी शामिल नहीं किया गया है। कहा जा रहा है कि एजेंसी ने शशिकांत शर्मा का नाम शामिल करने और उनके खिलाफ जांच के लिए केंद्र सरकार से अनुमति मांगी है पर अभी तक अनुमति नहीं मिली है। वैसे एजेंसी आगे भी पूरक आरोपपत्र दाखिल कर सकती है और उसमें हो सकता है कि उनका नाम जुड़े।

पर हैरानी की बात है कि 2017 में पहला आरोपपत्र दाखिल करने के तीन साल बाद, तमाम किस्म की जांच के बाद एजेंसी ने आरोपपत्र दाखिल किया है और उसमें किसी नेता का नाम नहीं है। ध्यान रहे इन तीन सालों में एजेंसी ने बड़ी जांच की है। इटली की अदालतों से दस्तावेज निकाले गए हैं, जिनके आधार पर भारत में मीडिया ने सूत्रों के हवाले खबर छापी और दिखाई कि कांग्रेस के अमुक नेता का नाम रिश्वत लेने वालों में है तो अमुक परिवार का जिक्र है। फिर इतालवी नागरिक क्रिश्चियन मिशेल को संयुक्त अरब अमीरात से प्रत्यर्पित करके भारत लाया गया। तब भी दावा किया गया कि उसने पूछताछ में अनेक लोगों के नाम बताए हैं। पर जब आरोपपत्र दाखिल गया तो उसमें मुख्य रूप से मिशेल और राजीव सक्सेना का ही नाम है। इससे एजेंसी से लेकर लीक हुई खबरों के हवाले से राजनेताओं को बदनाम करने वाली मीडिया पर भी सवाल खड़े होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares