nayaindia old pension scheme political parties पुरानी पेंशन योजना का सिरदर्द
kishori-yojna
राजरंग| नया इंडिया| old pension scheme political parties पुरानी पेंशन योजना का सिरदर्द

पुरानी पेंशन योजना का सिरदर्द

Dearness allowance central employees

सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना बहाल करने का मुद्दा पार्टियों के लिए बड़ा सिरदर्द बनता जा रहा है। खासकर सरकार चला रही पार्टियों के लिए। कांग्रेस इस मामले में सबसे आराम की स्थिति में है क्योंकि उसकी सिर्फ दो राज्यों में सरकार है और तीन राज्यों में वह साझा सरकार का हिस्सा है। ज्यादातर राज्यों में वह विपक्ष में है। अपने शासन वाले राज्यों में उसने पुरानी पेंशन योजना की लागू कर दी है और बाकी राज्यों में वह इसका वादा कर रही है। इसी तरह आम आदमी पार्टी भी दो छोटे छोटे राज्यों में सरकार में है और इसलिए उसे भी पुरानी पेंशन योजना लागू करने की घोषणा में दिक्कत नहीं है।

भारतीय जनता पार्टी इस मामले में बैकफुट पर है और उसके नेता न इसका विरोध कर पा रहे हैं और न समर्थन। उनके समर्थन में सरकारी और प्रतिबद्ध अर्थशास्त्री समझा रहे हैं कि कैसे पुरानी पेंशन योजना को बहाल करना खराब राजनीति भी है और खराब अर्थशास्त्र भी है। लेकिन सरकारी कर्मचारियों को इससे फर्क नहीं पड़ रहा है। देश भर के सरकारी कर्मचारियों के संगठन आठ दिसंबर को दिल्ली में प्रदर्शन की तैयारी कर रहे हैं। इसमें केंद्र सरकार के कर्मचारी भी होंगे और राज्य सरकारों के भी। सो, केंद्र की भाजपा सरकार के साथ साथ राज्यों की भाजपा सरकारें भी परेशान हैं। यह मुद्दा इसी तरह पकता रहा तो अगले लोकसभा चुनाव में यह मुख्य मुद्दा बन सकता है। अगले साल भाजपा के शासन वाले राज्यों में चुनाव हैं और वहां कांग्रेस इसका वादा करेगी। वैसे भाजपा के नेता हिमाचल प्रदेश और गुजरात के नतीजों का इंतजार कर रहे हैं। दोनों राज्यों में कांग्रेस और आप ने पुरानी पेंशन योजना बहाल करने का वादा किया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five − three =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
गुलमर्ग में भारी हिमस्खलन, 2 विदेशी पर्यटकों की मौत, कई घायल
गुलमर्ग में भारी हिमस्खलन, 2 विदेशी पर्यटकों की मौत, कई घायल