दोनों संबोधनों के बाद मची अफरातफरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच दिन के अंतराल पर दो बार राष्ट्र को संबोधित किया। पहले उन्होंने पिछले हफ्ते गुरुवार को राष्ट्रीय टेलीविजन पर 15 मिनट का भाषण दिया और फिर मंगलवार को आधे घंटे का भाषण दिया। पहले भाषण में उन्होंने लोगों से घरों में रहने की अपील करने के साथ साथ रविवार के ‘जनता कर्फ्यू’ का ऐलान किया। मंगलवार के भाषण में उन्होंने 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की। उन्होंने कहा कि लोग ‘अगले 21 दिन तक बाहर जाना भूल जाएं’। उन्होंने आधे घंटे के भाषण में पांच बार हाथ जोड़े इसके बावजूद लोगों को नोटबंदी के समय का उनका भाषण याद आया, जब उन्होंने हाथ के इशारे से कहा था कि ‘आपके घरों में रखे पांच सौ, हजार के नोट रद्दी हो गए’।

बहरहाल, नोटबंदी की घोषणा भी प्रधानमंत्री ने रात आठ बजे की थी। ये दोनों संबोधन भी रात आठ बजे हुए। इसके बाद पूरे देश में ऐसी अफरातफरी मची, जिसकी मिसाल फिर आठ नवंबर 2016 यानी नोटबंदी की रात में ही मिलती है। जैसे नोटबंदी की घोषणा के बाद लोग अपने अपने घर में पड़ी नकदी लेकर सोना खरीदने या दूसरी जरूरी-गैरजरूरी चीजें खरीदने निकल पड़े थे वैसे ही दोनों संबोधनों के बाद भी लोग खरीदारी करने निकल पड़े। नोटबंदी के समय भी उनके पास रात 12 बजे तक यानी चार घंटे का समय था और इस बार भी लोगों के पास चार घंटे का समय था। दोनों संबोधनों के बाद दुकानें देर तक खुली रही और लोग दुकानों के बाहर आपस में लड़ते रहे। जिसे जो सामान मिला वह खरीद कर ले गया।

दूसरी बार के भाषण में तो प्रधानमंत्री ने लोगों को यह भरोसा भी नहीं दिलाया कि जरूरी सामान मिलते रहेंगे। तभी ज्यादा अफरातफरी मची। तभी सवाल है कि क्या सरकार को पुराने अनुभवों से सबक नहीं लेना चाहिए था? इस तरह की पैनिक बाइंग रोकने या लोगों को समझाने का बंदोबस्त नहीं होना चाहिए था?

6 thoughts on “दोनों संबोधनों के बाद मची अफरातफरी

  1. Hi everybody!
    I’m looking for a demo of the game called X-Hex. The idea of the game is this.
    Field lozenge. On the fields put labels. Because of these marks the field grows and becomes grand.
    At the moment when it begins to touch the opponent’s field. Tags begin move now to the enemy, then back. The winner is the one who fills the entire field.
    Present bonuses, a call to an aircraft that randomly bombes the enemy’s fields and can hurt yours. Interesting toy.

    P.S.
    Thank you very much
    You can reply to the mail: judbayneoranderson@gmail.com

  2. Hi everybody!
    Looking for CMS for service site, there will be tidings, minimum information and section technical documentation, with access for downloading by pass.
    Can someone tell me which way to look? Unfortunately, he didn’t find anything.
    P.S.
    Thanks anyway
    You can reply to the mail: baldwincleaverl7@gmail.com

  3. Hello!
    Tell Please dear buddies, where can I stay?
    CPU during the day overloaded by 100%, on the online site 600 + – visitors, as seen the 403 error pops up.
    What is the amount of uniques in a day it’s hard to say for sure, everywhere the statistics diverge, but on average I think 20-30k.
    Subject of the site: entertaining, there are no streams, but there are a lot of pages. Visitors from all countries, the site is multilingual. Site weight plus minus 2 gigabytes. Dedicated server expensive for me, because I don’t make money on advertising.
    P.S.
    Thank you for any advice)
    You can reply to the mail: judbayneo.randerson@mail.com

  4. Hello everyone.
    I descry many blogs on the World Wide Web. Really liked your forum the most. You have a lot of entertaining content. Then I found what I was looking for a very long time.
    like the design of your site. Your website engine is similar to cmsJoomla. what template was used when creating the forum.
    P.S.
    Thank you for any advice) .
    You can reply to the mail:neorande.rson@mail.com
    Tel.: 88004000700.

  5. Hello!
    I apologize but it is possible that this topic is already somewhere here and discussed, in the search I did not find anything unfortunately.
    Searched for information in worldwide network , on forums and boards, sites, thematic and news sites, etc.
    Many googles and readers about affiliate network. I’m not at all understood where appeared visitors to my sites?

    P.S.
    Thanks anyway
    You can reply to the mail: carltonkarlis@gmail.com

  6. Regards.
    Admin, transfer my message if I wrote to the wrong thread. I really like your site. you have a lot of useful stuff... large target audience. I want to buy an eternal link from you.
    P.S.
    Thanks anyway.
    You can reply to the mail:judbay.erson@yahoo:com
    Tel.: 88001455555.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares