केजरीवाल भी बिगाड़ेंगे कांग्रेस का खेल - Naya India
राजरंग| नया इंडिया|

केजरीवाल भी बिगाड़ेंगे कांग्रेस का खेल

ऐसा नहीं है कि दूसरे और तीसरे मोर्चे के खेल में सिर्फ कांग्रेस, लेफ्ट और ममता बनर्जी का खेल है और कांग्रेस-लेफ्ट को सिर्फ ममता की चिंता करनी है। अगले साल होने वाले चुनावों में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी भी कांग्रेस या सेकुलर मोर्चे का खेल बिगाड़ेगी। केजरीवाल ने इसकी तैयारी अभी से शुरू कर दी है। अगले साल के शुरू में जिन पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं उन पांचों राज्यों में आम आदमी पार्टी की बड़ी तैयारी है। साल के अंत में दो राज्यों में और चुनाव होंगे उसमें भी हिमाचल प्रदेश में तो आप की तैयारी नहीं है पर गुजरात में वह बड़े पैमाने पर लड़ेगी। गुजरात के स्थानीय निकाय चुनावों में जिस तरह की सफलता उसे मिली है उससे लग रहा है कि वह विधानसभा की सभी सीटों पर लड़ कर कांग्रेस का खेल बिगाड़ेगी। इस काम में भाजपा की ओर से उसे प्रत्यक्ष या परोक्ष मदद भी मिलेगी।

उससे पहले अगले साल फरवरी-मार्च में पांच राज्यों- उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में विधानसभा के चुनाव हैं। इनमें से मणिपुर को छोड़ कर बाकी चार राज्यों में आम आदमी पार्टी लगभग सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी। उसने चारों राज्यों में तैयारी शुरू कर दी है। गोवा में तो पहले भी उसक असर रहा है, यह अलग बात है कि वह राजनीतिक सफलता नहीं हासिल कर सकी है। पंजाब में वह मुख्य विपक्षी पार्टी है। राज्य में किसान आंदोलन और एनडीए से अलग होने की वजह से अकाली दल अलग थलग पड़ी है। लेकिन आप ने किसानों की मदद करके अपने को उनका हितैषी बताया है।

सो, पंजाब में आम आदमी पार्टी इस बार किसान वोट में सेंध लगाने की स्थिति में अपने को देख रही है। हालांकि स्थानीय निकाय चुनावों में पंजाब के लोगों ने आप को बुरी तरह से हराया। लेकिन अगले साल के चुनाव में चारकोणीय चुनाव में कहीं भी वोट कटना कांग्रेस को नुकसान कर सकता है। उत्तर प्रदेश में तो आप ने अपने सबसे प्रमुख नेताओं में से एक संजय सिंह को आगे किया है। पार्टी उनको मुख्यमंत्री का चेहरा बना कर चुनाव लड़ेगी। हालांकि वहां कांग्रेस का कुछ भी दांव पर नहीं है पर आप को जो भी वोट मिलेगा वह कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का ही होगा। आप ने उत्तराखंड में भी चुनावी तैयारी शुरू कर दी है और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया खुद वहां का अभियान संभाल रहे हैं। इस तरह चारों राज्यों में आप किस्मत आजमाएगी, जिसका नुकसान कांग्रेस और दूसरी सेकुलर ताकतों को हो सकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
छत्तीसगढ़: कोरोना के चलते सरकारी कार्यालयों में भी वर्क फ्रॉम होम
छत्तीसगढ़: कोरोना के चलते सरकारी कार्यालयों में भी वर्क फ्रॉम होम