पीके राज्यसभा गए तो बिहार में क्या होगा? - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

पीके राज्यसभा गए तो बिहार में क्या होगा?

खबर है कि राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर को ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल से राज्यसभा भेजेंगी। उनके लिए यह कोई बड़ी बात नहीं है। पश्चिम बंगाल में राज्यसभा की पांच सीटें खाली हो रही हैं, जिनमें से चार सीटें तृणमूल कांग्रेस को मिलेंगी। इनमें से एक सीट पर वे प्रशांत किशोर को उम्मीदवार बना सकती हैं। इसका उनको फायदा ही होगा। क्योंकि पश्चिम बंगाल में बिहार और पूर्वांचल की बड़ी आबादी है। इस वोट का बड़ा हिस्सा भाजपा के साथ है। एक लोकप्रिय बिहारी चेहरे को राज्यसभा भेजने से इस वोट में सकारात्मक असर होगा। ध्यान रहे ममता ने प्रशांत किशोर और शत्रुघ्न सिन्हा सहित बिहार के कई नेताओं को अपने राज्य से जेड श्रेणी की सुरक्षा दे रखी है।

बहरहाल, अगर प्रशांत किशोर पश्चिम बंगाल से राज्यसभा में जाते हैं तो उनकी बिहार की राजनीति का क्या होगा? उन्होंने पिछले दिनों ‘बात बिहार की’ अभियान लांच किया। तीन महीने के बाद इसे राजनीतिक दल में परिवर्तित करना है। सो, एक तरफ वे बिहार में पार्टी बना कर या आम आदमी पार्टी को लांच करके राजनीति करने की तैयारी कर रहे हैं और दूसरी ओर पश्चिम बंगाल से राज्यसभा में जाने की चर्चा है। अगर वे सचमुच इस महीने होने वाले चुनाव में राज्यसभा में जाते हैं तो इसका मतलब होगा कि वे बिहार के अभियान को लेकर बहुत गंभीर नहीं हैं। कम से कम इस बार के चुनाव में। अगर वे राज्यसभा जाते हैं तो अपनी राजनीति करने के बदले वे किसी न किसी पार्टी के लिए चुनाव रणनीति बनाने का काम करेंगे।

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});