बिहार के लिए चुनाव आयोग की तैयारी

खबर है कि चुनाव आयोग ने बिहार में विधानसभा चुनाव की तैयारी तेज कर दी है। श्रीलंका में हुए संसदीय चुनाव के बाद माना जा रहा है कि चुनाव आयोग बिहार में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए चुनाव कराएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन करके श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को बधाई दी तो खासतौर से इस बात का जिक्र किया कि उन्होंने कोरोना संकट के बीच बहुत अच्छी तरीके से चुनाव कराया। इससे लग रहा है कि केंद्र सरकार भी बिहार के चुनाव के लिए तैयार है। पर सवाल है कि क्या बिहार जैसे बड़े राज्य में, जहां कोरोना वायरस का संकट इतनी तेजी से फैल रहा है, चुनाव कराया जा सकता है?

एक बड़ा सवाल यह भी है कि क्या विपक्षी चुनाव के लिए तैयार होगा? यह चुनाव आयोग के सरोकार का बड़ा सवाल होना चाहिए। ध्यान रहे बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल ने ऐलान किया है कि अगर चुनाव प्रचार के पारंपरिक तरीकों की इजाजत नहीं होती है तो उनकी पार्टी चुनाव नहीं लड़ेगी। उनके कहने का मतलब है कि जब तक चुनाव आयोग पार्टियों को रैली करने, रोड शो करने की मंजूरी नहीं देती है तब तक चुनाव नहीं होना चाहिए।

बिहार की बाकी विपक्षी पार्टियों ने यहीं कहा है। यहां तक कि सरकार की सहयोगी पार्टी लोजपा ने भी चुनाव आयोग से चुनाव टालने को कहा है। लोजपा के नेता चिराग पासवान ने कहा है कि चुनाव करा कर करोड़ों लोगों का जीवन संकट में नहीं डाला जाना चाहिए। तभी चुनाव आयोग को कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के बीच चुनाव कराने से बचना चाहिए। या इस बारे में फैसला करने से पहले राज्य की सभी विपक्षी पार्टिंयों की राय लेनी चाहिए। बिहार में जदयू और भाजपा को छोड़ कर कोई पार्टी अभी चुनाव के लिए तैयार नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares