हरीश रावत का पंजाब में क्या काम? - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

हरीश रावत का पंजाब में क्या काम?

कांग्रेस पार्टी ने हरीश रावत को पंजाब का प्रभारी बना रखा है। पता नहीं कांग्रेस के किस समझदार नेता के दिमाग में यह बात आई थी कि उत्तराखंड चुनाव से एक साल पहले रावत को पंजाब का प्रभारी बना दिया जाए। दोनों राज्यों में एक ही साथ चुनाव होने हैं। सो, यह सोचा भी कैसे जा सकता है कि एक राज्य का सबसे बड़ा नेता दूसरे राज्य का प्रभारी लगे! ध्यान रहे उत्तराखंड में कांग्रेस के पास ले-देकर एक ही नेता हैं हरीश रावत। उनके अलावा पार्टी के पास न कोई चेहरा है और न कोई संगठन को मजबूती देने वाला नेता है। कांग्रेस ने जिन लोगों को मुख्यमंत्री बनवाया उनमें से नारायण दत्त तिवारी का निधन हो गया है और विजय बहुगुणा कांग्रेस छोड़ कर जा चुके हैं। कांग्रेस में जो मुख्यमंत्री पद के दावेदार थे जैसे सतपाल महाराज तो वे भी भाजपा में जाकर उधर मंत्री बन गए हैं।

यह भी पढ़ें: किसान इमरजेंसी का विरोध क्यों कर रहे हैं?

सो, कांग्रेस की एकमात्र उम्मीद हरीश रावत थे। लेकिन उनके पार्टी ने पंजाब में लगा रखा है। पिछले कई महीने से तो वे कैप्टेन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू का झगड़ा सुलझाने में लगे हैं। हकीकत यह है कि उनकी बात न कैप्टेन सुन रहे थे और न सिद्धू। तभी मल्लिकार्जुन खड़गे को भी इस काम में लगाना पड़ा। बहरहाल, हरीश रावत की उपयोगिता सिर्फ और सिर्फ उत्तराखंड में है। भाजपा ने मुख्यमंत्री बदला है और पार्टी संगठन व सरकार में जिस तरह की तनातनी है उसका फायदा उठा कर कांग्रेस अपने को मजबूत कर सकती है। पर यह तब होगा, जब कांग्रेस पार्टी रावत को पूरी तरह से उत्तराखंड की कमान दे। उनको घोषित या अघोषित तौर पर मुख्यमंत्री का दावेदार बनाया जाए और काम करने की पूरी छूट दी जाए तो कांग्रेस को फायदा हो सकता है। लेकिन कांग्रेस ने उनको पंजाब में प्रभारी लगाया हुआ है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *