regional actors and bjp क्षेत्रीय अभिनेता और भाजपा की राजनीति
राजनीति| नया इंडिया| regional actors and bjp क्षेत्रीय अभिनेता और भाजपा की राजनीति

क्षेत्रीय अभिनेता और भाजपा की राजनीति

babul supriyo

regional actors and bjp भाजपा ने हिंदी फिल्मों के अलावा कई भाषाओं के अभिनेताओं को अपनी पार्टी से जोड़ा लेकिन ऐसा लग रहा है कि क्षेत्रीय अभिनेताओं के साथ भाजपा की राजनीति बहुत अच्छे तरीके से काम नहीं कर रही है।

Read also नीतीश के नए तेवर पर सवाल

ज्यादातर क्षेत्रीय अभिनेता या तो भाजपा के साथ जुड़ नहीं रहे हैं या जुड़ रहे हैं तो बहुत जल्दी अलग हो जा रहे हैं। मलयालम फिल्मों के अभिनेताओं से लेकर बांग्ला फिल्मों तक और तेलुगू से लेकर तमिल फिल्मों तक के अभिनेताओं या कलाकारों के साथ ऐसा ही हो रहा है। मलयालम फिल्मों के बड़े अभिनेता सुरेश गोपी को भाजपा ने राज्यसभा में भेजा है। लेकिन वे अलग ही राजनीति कर रहे हैं। पिछले दिनों पेगासस जासूसी के मामले पर संसद की आईटी मंत्रालय की संसदीय समिति के अध्यक्ष शशि थरूर ने बैठक बुलाई तो भाजपा सांसदों ने इसका बहिष्कार किया पर सुरेश गोपी उस बैठक में शामिल होने पहुंच गए। वे उपस्थिति रजिस्टर पर दस्तखत भी करने वाले थे लेकिन किसी तरह से उनको रोका गया।

bjp

Read also ओड़िशा के समर्थन से राष्ट्रीय हॉकी

उससे पहले केरल विधानसभा चुनाव में भी उन्होंने गुरूवायूर सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार की जीत के लिए अपील की थी। उधर भाजपा ने तमिल फिल्मों के सुपर सितारे रजनीकांत को भाजपा के साथ जोड़ने के लिए जीतोड़ प्रयास किया लेकिन कामयाबी नहीं मिली। आखिरकार रजनीकांत ने राजनीति से तौबा कर ली। इसी तरह आंध्र प्रदेश में तेलुगू फिल्मों के सुपरस्टार पवन कल्याण को भाजपा पार्टी में लाना चाहती है लेकिन कामयाबी नहीं मिल रही है। बंगाल के बाबुल सुप्रियो की राजनीति ने पार्टी को हैरानी में अलग डाला है। मंत्री पद से हटाए जाते ही बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का ऐलान कर दिया। हरियाणवी कलाकार सोनाली फोगाट को भाजपा ने टिकट दी लेकिन वे चुनाव नहीं जीत सकीं। बहरहाल, बाकी जगह जो हो लेकिन भोजपुरी फिल्मों के सितारे जरूर भाजपा के साथ सफल हो रहे हैं।

regional actors and bjp

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow