बिना अतिथि के गणतंत्र दिवस परेड! - Naya India
राजनीति| नया इंडिया|

बिना अतिथि के गणतंत्र दिवस परेड!

तो क्या इस बार बिना अतिथि के ही गणतंत्र दिवस की परेड होगी? भारत के गणतंत्र बनने के बाद से इतिहास में आज तक ऐसा नहीं हुआ है कि बिना किसी विदेशी मेहमान के परेड का आयोजन हुआ है। हर बार 26 जनवरी से कई महीने पहले विदेशी अतिथि का नाम तय हो जाता है और दोनों पक्षों की सहमति बन जाती है। इस बार कोरोना महामारी के बावजूद परेड की तैयारियां समय से शुरू हो गई थीं और समय रहते ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को न्योता भेज दिया गया था। उन्होंने न्योता स्वीकार भी कर लिया था। लेकिन ब्रिटेन में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से उन्होंने अब मना कर दिया है। अब गणतंत्र दिवस की परेड में 20 दिन से भी कम बचे हैं। इतने कम समय में क्या भारत सरकार किसी नए विदेशी मेहमान से बात करेगी या बिना अतिथि के परेड का आयोजन करेगी?

अगर भारत पहल करे तो अब भी किसी मेहमान से बात हो सकती है और कोई विदेशी राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री मुख्य अतिथि बन सकता है। दो-तीन साल पहले जब दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा का नाम तय हुआ था तब भी देरी हुई थी और दिसंबर में जाकर उनकी यात्रा फाइनल हुई थी। लेकिन इस बार कोरोना वायरस की वजह से स्थिति अलग है। अभी दुनिया के लगभग सभी देशों के नेता अपने अपने देश में वायरस की महामारी से निपटने में लगे हैं। वायरस के नए स्ट्रेन ने सभी देशों की चिंता बढ़ाई है। भारत में भी चिंता कम नहीं है। ऊपर से सभी देशों में वैक्सीनेशन शुरू हो गया है या शुरू होना है। ऐसे में भारत को इसे प्रतिष्ठा का सवाल बना कर किसी विदेशी अतिथि को बुलाने पर जोर देने की बजाय इस बार परेड का सीमित आयोजन करना चाहिए। परेड में शामिल होने वालों से लेकर इसे देखने आने वाले दर्शकों तक के लिए विशाल आयोजन से खतरा हो सकता है। सरकार को इसे सीमित ही रखना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
रोज लोग कर रहे थे जाम की शिकायत , फिर एक दिन पुलिस कमिश्नर …
रोज लोग कर रहे थे जाम की शिकायत , फिर एक दिन पुलिस कमिश्नर …