nayaindia रूस, चीन की वैक्सीन भी मान्य हो जाएगी! - Naya India
राजरंग| नया इंडिया|

रूस, चीन की वैक्सीन भी मान्य हो जाएगी!

अमेरिका में इस बात की तैयारी हो रही है कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए बनाई जा रही वैक्सीन को तीसरे चरण के अंतिम नतीजे आने से पहले ही मंजूरी दे दी जाए। अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन, एफडीई के कमिश्नर स्टीफन हान ने कहा है कि इमरजेंसी स्थितियों को देखते हुए एफडीए इस पर विचार कर रहा है कि तीसरे चरण के परीक्षण के नतीजे आने से पहले वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन को मंजूरी दे दी जाए। असल में पहले दो चरण के नतीजे उम्मीद के मुताबिक रहे हैं। इसलिए सबको लग रहा है कि तीसरे चरण की नतीजा भी उसी लाइन पर आएगा। इसलिए देरी नहीं करनी चाहिए। वैसे भी अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने साल के अंत तक अमेरिकी लोगों को टीका लगवाने का वादा किया है। साल के अंत तक से उनका मतलब चार नवंबर को होने वाले चुनाव से पहले तक का है। उनका प्रयास है कि चार नवंबर से पहले ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लग जाए। यह तब होगा, जब सितंबर में वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन हो जाए।

एफडीए ने इस दिशा में कदम बढ़ा दिए हैं। तभी यह सवाल है कि क्या इसके बाद रूस और चीन की वैक्सीन को भी मान्यता मिल जाएगी? अभी उनकी वैक्सीन को संदेह की नजर से देखा जा रहा है। चूंकि उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्लुएचओ की गाइडलाइंस का पालन नहीं किया और अंतिम चरण के अंतिम नतीजे आने से पहले ही वैक्सीन को रजिस्टर कर लिया। तभी इनकी सफलता पर संदेह किया जा रहा है। लेकिन जब अमेरिका में भी अमेरिकी कंपनी या ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी की वैक्सीन को अंतिम नतीजे से पहले बनाने और बेचने की मंजूरी मिल जाएगी तो फिर रूस और चीन की वैक्सीन को कैसे रोकेंगे? इसमें यह भी देखना दिलचस्प होगा कि अमेरिका की इस तैयारी पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की क्या प्रतिक्रिया होती है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

2 × five =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कुछ व्यावहारिक सवाल हैं
कुछ व्यावहारिक सवाल हैं