राहुल पर सिंधिया ने कुछ इस तरह किया पलटवार कि ट्वीटर पर राजस्थान में सचिन पायलट को सीएम बनाओ करने लगा ट्रेंड - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | देश | राजनीति| नया इंडिया|

राहुल पर सिंधिया ने कुछ इस तरह किया पलटवार कि ट्वीटर पर राजस्थान में सचिन पायलट को सीएम बनाओ करने लगा ट्रेंड

New Delhi: राहुल गांधी(Rahul Gandhi)  ने इंडियन यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय कार्यकारिणी को संबोधित करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) पर जो बयान दिया था उससे राजनीतिक विवाद बढ़ गया है. राहुल गांधी ने भी नहीं सोचा होगा कि विपक्ष उनके इस तंज को इस तरह से लेगा. भाजपा(BJP) के नेता अब राजस्थान में सचिन पायलट( Sachin Pilot)  को सीएम बनाने की मांग करने लगे हैं.  इसके पीछे की वजह भी भाजपाई राहुल गांधी द्वारा दिये गये बयान को ही बता रहे हैं. भाजपा के नेताओं का कहना है कि राहुल गांधी फिर से  सिंधिया को सीएम( CM)  बनाने का प्रलोभन दे रहे हैं लेकिन वे शायद भूल गये हैं कि ऐसा करना उनकी पार्टी की आदतों में शामिल हो गया है. भाजपा के नेताओं का कहना है कि कांग्रेस ने राजस्थान( RAJASTHAN) में भी कुछ ऐसा ही किया था.  राजस्थान में भी दुल्हा दिखाया किसी और को शादी किसी और से ही करवा दी. एसे में अगर राहुल गांधी को अगर अपने फैसले पर पछतावा हो भी रहा है तो उन्हें पहले सचिन पायलट को राजस्थान का सीएम बनाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें- सैमसंग ने कस्टमाइजेबल होम अप्लाइंसेस लाइनअप का किया विस्तार

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी राहुल को दिया जबाव

राहुल गांधी द्वारा कल  ज्योतिरादित्य सिंधिया पर कसे हुए तंज पर मीडिया ने जब सिंधिया से सवाल किये तो उन्होंने कहा कि काश, राहुल गांधी को मेरी फिक्र उस समय होती जब मैं कांग्रेस( Congress) में था. इतना कहने के बाद सिंधिया शांत हो गये और कहा कि मूझे इससे ज्यादा और कुछ नहीं कहना. हालांकि सिंधिंया ने इतने में ही राहुल गांधी को करारा जबाव दे दिया.इसके बाद से तो जैसे भाजपा के नेता राहुल गांधी और कांग्रेस के पीछे कुछ ऐसे पड़े कि  ट्विटर (Twitter) पर भी सचिन पायलट को सीएम बनाने की मांग ट्रेंड (Trend)  करने लगा.

इसे भी पढ़ें- महिला क्रिकेट : मंधाना और राउत के प्रदर्शन से भारत ने द. अफ्रीका को हराया

राहुल और सिंधिया की दोस्ती के थे चर्चे

जानकारों की मानें तो  राहुल गांधी के  अपने पूर्व  सहयोगी  ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ काफी अच्छे रिश्ते रहे है. दोनों की दोस्ती पर किसी कोे भी शक नहीं था. लेकिन सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के फैसले ने कांग्रेस के साथ ही सबसे ज्यादा दुखी राहुल को ही किया था. जिसके बाद से दोनों एक दूसरे पर कुछ ज्यादा कहने से भी बचते रहते थे.  लेकिन कल राहुल गांधी द्वारा दिये गये बयान के बाद से एक बार फिर दोनों पार्टियों को मौका मिल गया.

इसे भी पढ़ें- दिल्ली सरकार ने पेश किया 69,000 करोड़ रुपये का ‘देशभक्ति’ बजट

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *